गोवा फिल्म फेस्टिवल में उम्मीद से परे कलाकारों की आई भीड़

- गोवा से लौटकर ब्रजभूषण चतुर्वेदी

फिल्मों की भाषा संसार को एकता के सूत्र में न सिर्फ बांधती है बल्कि वे अपनी श्रेष्ठता भी सिद्ध करती है इसी के साथ अगर इसमें हालीवुड व बालीवुड के फिल्म कलाकारों का मेला लग जाय तो समारोह में चार चांद लग जाते है। यही शानदार हाल रहा हाल ही में पंजिम (गोवा) में भारत के 48 वें अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह का। जिसमें जहाँ चमक दमक से सितारों ने दर्शकों को मोहित किया वहीं 82 देशों की शानदार फिल्मों ने विश्वभर के दर्शकों का दिल जीत लिया।

पंजिम (गोवा) से लगभग 20 किलोमीटर दूर श्यामाप्रसाद मुखर्जी विशाल हाल में हजारों दर्शकों की मौजूदगी में अभिनेता शाहरुख खान ने अपने निराले अंदाज में दर्शकों को हंसना शुरु किया एवं फिर एक के बाद एक सितारे जमीन पर उतरने लगे। सितारों ने खूब धमाल किया व केन्द्रीय सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने इसी बीच समारोह का उद्घाटन किया अभिनेत्री श्रीदेवी, उनकी बेटी जान्हवी, बोनी कपूर, नाना पाटेकर सहित अनेकों कलाकार व दर्शक थिरकते रहे।

इस बार इतने कलाकारों की भीड़ आ जायेगी किसी को उम्मीद नहीं थी। तीन घंटे के कार्यक्रम ने सबका दिल जीता। फिर कला अकादमी में ईरान के प्रसिद्ध निर्देशन माजिद मजीदी भी भारतीय परिवेश पर बनी फिल्म बियान्ड द क्लाइड े दर्शकों का दिल जीता। यह पहला अवसर था जब भारत के अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में हिन्दी भाषा की फिल्म उद्घाटन की फिल्म बनी वहाँ फिल्म के कलाकारों से दर्शकों को रुबरु मिलवाया गया।

नौ दिवसीय समारोह का आगाज होते ही दशको फिल्मों का प्रदर्शन शुरु हो गया। इस बार समारोह में विश्व की चर्चित पुरस्कृत फिल्मों ने आम दर्शकों को बहुत प्रभावित किया। हालीवुड की फिल्म मदर ने तो दर्शकों के दिलों में खलबली मचा दी वहीं उमा जैसी फिल्में दर्शकों पर छा गई। पार्टी फिल्म की जितनी प्रशंसा की जाय कम है। अमेरिका, इटली, सोवियत संघ, चीन, भारतीय पेनोरमा की फिल्में व प्रतिस्पर्धा वर्ग की पंद्रह फिल्मों ने समारोह में तहलका मचा दिया।

इसी बीच निर्माता निर्देशक सुभाष घई, दिप्ती नवल, नाना पाटेकर, राजकुमार राव, मधुर भंडारकर व कनाडा के प्रतिनिधि मंडल के सदस्य अपनी फिल्मों को दिखाकर रोमांचित महसूस कर रहे थे। नौ दिवसीय इस भव्य समारोह की फिल्मों ने व पत्रकार वार्ताओं ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया।

फिर समापन समारोह का दिन आया। इस समापन समारोह में भी सितारों की भीड़ लग गई। महानायक अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, सलमान खान, कैटरीना कैफ, सुशांत सिंह राजपूत, कुछ बाल कलाकार, नाना पाटेकर, विश्व सिनेमा के बड़े निर्माता-निर्देशक कलाकारों ने खूब तालियां बटोरी। फिल्मी-कलाकारों की इतनी भीड़ पहले किसी भी समारोह में नहीं देखी गई थी।

प्रतिस्पर्धा वर्ग की फिल्मों को स्वर्ण मयूर, रजत मयूर एवं एक करोड़ के ईनाम दिये गये वहीं अक्षय कुमार ने अमिताभ बच्चन के चरण पकड़ कर उनका अभिवादन किया। अमिताभ बच्चन को 10 लाख रुपये के साथ लाइफ टाइम एचीवमेन्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया। निर्माता-निर्देशक करण जौहर ने संचालन व आभार माना।

भव्यता से भरे समारोह में जहाँ मैंने विश्व की 38 फिल्मों का आनंद लिया वहीं हर फिल्म के पूर्व प्रत्येक दर्शक ने राष्ट्रगान का हर शो में खड़े रहकर सम्मान भी किया। इस भव्य समारोह में जिन प्रमुख कलाकारों ने अपनी उपस्थिति प्रथम दिवस से ही दर्ज कराई वे थे – अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, शाहरुख खान, स्मृति ईरानी, केटरीना कैफ, भूमि पारनेकर, सुशांत सिंह राजपूत, सलमान खान, पूजा हेगडे, सोनाली बेन्द्रे, हुमा सुरेशी, करण जौहर, रायमा सेन, सिद्धार्थ …………., श्रीदेवी सिद्धार्थ राम कपूर, बोनी कपूर, पियूष पांडे, राजकुमार राव।

कुल मिलाकर इस समारोह की सफलता इसी बात से रही कि अच्छी अच्छी फिल्में, सितारों की भीड़ विश्व के फिल्मकारों से खुली चर्चाऐं, ओपन फोरम में फिल्मकारों के विचार एवं एन.एफ.डी.सी. तथा इन्टरटेनमेन्ट सोसायटी आफ गोवा तथा मुख्यमंत्री मनोहर पारीकर की दूर दृष्टि।

बाय बाय गोवा के साथ 2019 में फिर इफी का आगाज व तैयारी।

advt
Back to top button