खुद को इंटेलिजेंस अधिकारी बताकर एक युवती से लाखों की ठगी, गिरफ्तार

आरोपी ने इस तरह से 10 से 12 लड़कियों के साथ धोखाधड़ी की

पुणे:महाराष्ट्र के पुणे में साइबर सेल पुलिस ने खुद को इंटेलिजेंस अधिकारी बताकर एक युवती से लाखों की ठगी करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है. आरोपी ने इस तरह से 10 से 12 लड़कियों के साथ धोखाधड़ी की है.

आरोपी ने पहले सोशल मीडिया के जरिए युवती के साथ दोस्ती की थी, फिर शादी का वादा किया. आरोपी ने अपनी पहचान छिपाकर यह कहा था कि वह अमेरिका में इंटेलिजेंस ऑफिसर के तौर पर काम करता है.

आरोपी ने कहा मैं भारत में जांच के लिए आया हूं, हम 154 देशों को हैंडल करते हैं. शख्स ने अपने बारे में भ्रम फैलाकर करीब 9,65,000 रुपये की धोखाधड़ी की. पुलिस ने इस केस में चतुश्रृंगी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कर लिया है.

साइबर पुलिस ने आरोपी को बारामती से गिरफ्तार किया है. आरोपी का नाम अमित चव्हाण है. आरोपी ने युवती को अपना नकली नाम राहुल पाटिल बताया था. आरोपी ने इस तरह से 10 से 12 लड़कियों के साथ धोखाधड़ी की है.

पुलिस पूरे केस की पड़ताल में जुटी है. आरोपी शख्स अच्छे पदों और हाइली एजुकेटेड लड़कियों के साथ शादी करने का वादा करता था. इस केस में 30 वर्षीय युवती ने शिकायत दर्ज कराई है. पीड़ित युवती पेशे से आर्किटेक्ट है.

आरोपी ने मिटाए सारे रिकॉर्ड!

आरोपी ने युवती को यह बाताया कि उस पर भारत की खुफिया एजेंसी रॉ की नजर है. वह दुबई, अमेरिका और इंडिया के लिए काम करता है. रॉ के लोगों को पता चल गया है कि वह इंडिया में है.

यही डर दिखाकर आरोपी ने युवती का मोबाइल और लैपटॉप तक फॉर्मेट करा दिया, सिमकार्ड भी ले लिया. युवती के एकाउंट से लाखों रुपये वक्त-वक्त पर अपने अकाउंट में ट्रांसफर किया. मोबाइल फोन बंद होने की वजह से युवती को पता ही नहीं चला कि उसके एकाउंट से पैसे ट्रांसफर किए जा रहे हैं.

लाखों की धोखाड़ी!

शख्स ने युवती के सामने यह ड्रामा रचा कि वह कर्नाटक में है और सरेंडर करने जा रहा है. युवती ने जब अपना बैंक अकाउंट चेक किया तो उसके खाते से 8 लाख 37 हजार रुपये ट्रांसफर किए जा चुके थे. युवती ने आरोपी से कॉल करके अपने पैसे वापस मांगे, लेकिन आरोपी ने किसी भी तरह का जवाब नहीं दिया. युवती बाद में समझी कि उसके साथ बड़ी धोखाधड़ी की जा चुकी है.

ऐप के जरिए हुई थी दोस्ती!

एफआईआर के मुताबिक युवती के परिवारवाले उसकी शादी के लिए रिश्ता देख रहे थे. युवती ने भी अपने मोबाइल में डेटिंग ऐप डाऊनलोड किया था. बेटर हाफ ऐप के जरिए युवती की आरोपी के साथ मार्च 2021 में पहचान हुई. उसके बाद युवती और आरोपी दोनों मोबाइल के जरिए बात करने लगे थे. आरोपी ने युवती को अपना नाम राहुल पाटिल बताया था.

आरोपी खुद 1 अप्रैल 2021 को पीड़ित युवती से मिलने के लिए औंध में आया था. साथ ही आरोपी ने यह बताया कि उसके पिता पुलिस में हैं और उसकी मां मुंबई में एक कॉलेज में प्रोफेसर रह चुकी हैं. आरोपी ने युवती को बताया कि वह सातारा का रहने वाला है.

आरोपी ने 3 अप्रैल को युवती को शादी के लिए प्रपोज किया. लड़की ने अपने माता पिता से आरोपी की मुलाकात करवायी थी. आरोपी ने लड़की के माता-पिता को बताया था कि वह विदेश में रहता है और 6 जून को भारत में आनेवाला है.

पूरे परिवार के साथ शख्स ने की थी चीटिंग!

पीड़िता आर्किटेक्ट बिजनेस चलाती है. आरोपी ने लड़की से कहा था कि वह कंपनी का रजिस्ट्रेशन करा सकता है. उसने फिर लड़की के भाई का आधारकार्ड और पेनकार्ड ले लिया. 10 जून को शख्स ने लड़की से कहा कि मुझे टिप ऑफ मिला है कि रॉ और ब्यूरो विभाग के लोगों को पता चला है कि भारत में इंटेलिजेंस अधिकारी है, जिसे पकड़ने के लिए लोग ढूंढ रहे हैं. आरोपी ने युवती का मोबाइल फोन, लैपटॉप, फॉर्मेट करा दिया. लड़की को सोशल मीडिया से भी दूर रहने को कहा.

लड़की से झांसा देकर लिया एटीएम!

पीड़िता को एक आर्किटेक्ट साइट का ऑर्डर मिला था, जिसका एडवांस 5,53,000 रुपये मिला था. आरोपी ने फिर लड़की से कहा कि उसका दोस्त गुजरात में रहता है जो एक टेक्सटाइल बिजनेस रन करता है. वह बहुत कम कीमत में और जल्दी सामान दिला सकता है. आरोपी ने लड़की को रॉ का डर दिखाकर उसका एटीएम कार्ड भी अपने पास रख लिया. युवती के खाते से शख्स ने अपने खाते में पैसे ट्रांसफर कर लिए, जिसकी जानकारी भी लड़की को नहीं लगी.

साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन की पुलिस निरीक्षक रुपाली पवार ने आजतक से बातचीत में कहा कि जांच के दौरान यह पता चला है कि आरोपी ने 10 से 12 लड़कियों के साथ इस तरह की धोखाधड़ी की है. पुणे पुलिस नागरिकों से अपील कर रही है कि अगर किसी के साथ इस तरह की धोखाधड़ी हुई है तो साइबर पुलिस स्टेशन में तत्काल संपर्क करें.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button