छत्तीसगढ़

फेसबुक पर एक लाइक ने छीनी 5 वार्ड ब्वायज की नौकरी

रायपुर : एम्स के 5 वार्ड ब्वायज को बिना कारण बताए नौकरी से निकाल दिया गया है। इन वार्ड ब्वायज को कार्य से निकालने से पहले उनके किसी गलती या कोई भी कारण नहीं बताया गया। बस उन्हें कह दिया गया कि, 1 सितम्बर से काम पर नहीं आना। उन 5 वार्ड ब्वायज ने प्रशासनिक अधिकारियों से कार्य से निकालने का कारण पूछा, लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। बल्कि अनभिज्ञ वार्ड ब्वायज को निकालने का कारण था कि, एम्स के डायरेक्टर के फेसबुक पोस्ट को उन्होंने लाइक कर दिया था।

क्या है पूरा मामला : रविवार को एक प्रेसवार्ता में युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव संजीव शुक्ला ने इस मामले की जानकारी देते हुए कहा कि, कुछ दिन पहले एम्स की ओर से बी ब्लॉक में 240 बेड का नया सेक्शन हुआ था। जिसका उद्घाटन डॉयरेक्टर डॉ नितिन एम. नागरकर ने अपनी पत्नी और परिवार वालों से कराया था। इस उद्घाटन का फोटो उन्होंने फेसबुक पर अपलोड किया। कुछ लोगों ने लाइक किया और कुछ ने इसका विरोध भी किया। कई लोगों का कहना था इसका उद्घाटन किसी विशेष से कराया जाना था। वहीं एम्स सर्जन डॉ राधा कृष्णन रामचन्दानी ने अंग्रेजी में पोस्ट कर विरोध किया, जिसमें से 5 वार्ड बॉय ने अंग्रेजी ठीक से समझ नहीं आने के कारण अच्छा समझकर लाइक कर दिया। इससे डायरेक्टर आग बबूला हो गए। इसके बाद उन्होंने भोपाल में इसके ठेकेदार को फोन कर इन्हें कार्य से निकालने को कह दिया। कार्य से निकालने में यह आरोप लगाया कि शासकीय कार्य के कम्प्यूटर में छेड़छाड किया गया। कार्य से निकालने के संबंध में युवा कांग्रेस ने कहा की एम्स प्रबंधन उन वार्ड ब्वायज को बहाल करे, नहीं तो डायरेक्टर और प्रबंधन के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा ।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *