कर्नाटक में गठबंधन की करारी हार और कांग्रेस में बढ़ते असंतोष के बीच बैठक आज

इस बैठक के लिए एआइसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल बेंगलुरु रवाना हो गए

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की करारी हार और कांग्रेस में बढ़ते असंतोष के बीच बैठक होने जा रही है। यह बैठक कर्नाटक के सत्तारूढ़ गठबंधन में बढ़ती चिंता के बीच उसके घटक कांग्रेस ने राज्य की वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा करने के लिए आज पार्टी विधायक दल की बैठक बुलाई है।

गठबंधन साझीदारों में खटास पैदा होने की खबरों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और राज्य के प्रभारी एआइसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल बेंगलुरु रवाना हो गए हैं। राज्य में कांग्रेस और जदएस की गठबंधन सरकार है।

कांग्रेस के दो विधायकों रमेश जार्किहोली और सुधाकर ने कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा से बेंगलुरु में उनके आवास पर रविवार को मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद से पार्टी में असंतोष की आवाज तेज हो गई। मुलाकात के बाद दोनों विधायकों ने कहा कि यह राजनीतिक मुलाकात नहीं थी। शुरू से ही दक्षिण भारत के इस राज्य में गठबंधन सरकार नाजुक बनी हुई है।

हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में कांग्रेस-जदएस गठबंधन को गहरा झटका लगा है। दोनों पार्टियां सिर्फ एक-एक सीट ही जीत पाई। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि 10 जून के बाद राज्य सरकार गिर जाएगी। लोकसभा चुनाव में कर्नाटक की 28 सीटों में से भाजपा 25 झटकने में कामयाब रही। एक सीट निर्दलीय के खाते में गई है।

सूत्रों ने कहा कि आजाद और वेणुगोपाल राज्य के नेताओं के साथ चर्चा करने गए हैं। खबर है कि पार्टी की प्रदेश इकाई ने 29 मई को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई है। कांग्रेस के दोनों वरिष्ठ नेता स्थिति पर काबू पाने के लिए राज्य के शीर्ष नेताओं के साथ बातचीत करेंगे।

कर्नाटक विधानसभा की स्थिति

225 सदस्यीय कर्नाटक विधानसभा में 105 सदस्यों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है। सत्ताधारी गठबंधन के पास 117 सदस्य हैं जिनमें से कांग्रेस के 79 और जदएस के 37 सदस्य हैं। एक सदस्य बसपा का है।

मंत्रिमंडल में केवल तीन पदों को भरा जाएगा : सिद्दरमैया

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी द्वारा मंत्रिमंडल में फेरबदल की खबरों के बीच जदएस-कांग्रेस समन्वय समिति के प्रमुख सिद्दरमैया ने मंगलवार को कहा कि यह केवल विस्तार है। मंत्रिमंडल में तीन पदों को भरा जाएगा। यह कोई फेरबदल नहीं है। मंत्रियों से इस्तीफा मांगे जाने की खबरों पर उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है।

येद्दयुरप्पा ने विधानसभा भंग करने की मांग की

भाजपा की कर्नाटक इकाई के प्रमुख बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि यदि सत्ताधारी कांग्रेस-जदएस गठबंधन विधानसभा भंग कर चुनाव में जाने का फैसला ले तो यह बेहतर रहेगा। पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा के विधायकों का कांग्रेस या जदएस में जाने की संभावना को खारिज किया।

Back to top button