मनोरंजनराष्ट्रीय

सूरत के एक कारोबारी ने कंगना रनौत के प्रिंट वाली फेन्सी क्रेप साड़ियां की लॉन्च

पल्लू में कंगना रनौत की तस्वीर के साथ ‘I Support Kangana Ranaut

मुंबई: सूरत के एक स्थानीय कपड़ा कारोबारी ने कंगना रनौत के प्रिंट वाली फेन्सी क्रेप साड़ियां लॉन्च की हैं. जिसके पल्लू में कंगना रनौत का ‘मणिकर्णिका’ अवतार देखने को मिल रहा है. पल्लू में कंगना रनौत की तस्वीर के साथ ‘I Support Kangana Ranaut.

झांसी की रानी. Alia Supports Power Of Woman. मणिकर्णिका, We Salute To Kangana.’ लिखा नजर आ रहा है. जिससे साफ जाहिर है कि कपड़ा व्यापारी ने ये साड़ी एक्ट्रेस के प्रति अपना समर्थन जाहिर करने के लिए लॉन्च की है.

ये साड़ियां सूरत के कपड़ा व्यापारी छोटूभाई और रजत डावर ने लॉन्च की हैं, जिनका सूरत के टेक्सटाइल मार्केट में आलिया फेब्रिक्स के नाम से प्रतिष्ठान है. उत्पादकों के मुताबिक, यह उनकी अन्याय के खिलाफ और कंगना रनौत के स्टैंड की सराहना करने की कोशिश है. यही नहीं, उन्हें इन साड़ियों के लिए जबरदस्त ऑनलाइन ऑर्डर मिल रहे हैं. उत्पादकों का दावा है कि उन्हें हर रोज इन साड़ियों के लिए भारी ऑर्डर मिल रहे हैं.

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद एक्टर को न्याय दिलाने की जंग में बॉलीवुड की ‘पंगा क्वीन’ कंगना रनौत सबसे आगे नजर आईं. इस बीच कंगना ने महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस के प्रति अपना गुस्सा जाहिर करने के लिए मुंबई की तुलना पीओके से कर दी. जिसके बाद शिवसेना और कंगना में जुबानी जंग तेज हो गई और नतीजा ये हुआ कि कंगना के मुंबई स्थित ऑफिस पर कार्रवाई करते हुए बीएमसी ने कंगना के ऑफिस पर बुल्डोजर चला दिया.

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत इन दिनों महाराष्ट्र सरकार संग जारी तल्खी को लेकर सुर्खियों में हैं. कंगना रनौत की शिवसेना और मुंबई पुलिस पर टिप्पणी के बाद बीएमसी (BMC) ने एक्ट्रेस का मुंबई स्थित ऑफिस बुल्डोजर से ध्वस्त कर दिया. जिसके बाद से ही एक्ट्रेस को लेकर आम जन अपना समर्थन जाहिर कर रहे हैं.

कहीं कंगना के पोस्टर्स के साथ एक्ट्रेस के समर्थक सड़कों पर मार्च करते नजर आए तो कहीं शिवसेना (Shiv Sena) के प्रति अपना गुस्सा जाहिर कर लोगों ने कंगना के प्रति अपना समर्थन जाहिर किया. इस बीच सूरत में एक्ट्रेस को लेकर अलग ही तरह का समर्थन देखने को मिला.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button