कृषि, जल संसाधन, पशुपालन एवं उद्यान विभाग के तकनीकी अधिकारियों का दल गठित होगा

रायपुर। मुख्य सचिव सुनील कुमार कुजूर की अध्यक्षता में आज यहां छत्तीसगढ़ विधानसभा के समिति कक्ष में छत्तीसगढ़ शासन की अति महत्वाकांक्षी कार्य योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा एवं बाड़ी विकास योजना को मूर्तरूप देने के लिए संबंधित विभाग के सचिव स्तरीय अधिकारियों की बैठक सम्पन्न हुई।

बैठक में मुख्य सचिव कुजूर ने कृषि, जल संसाधन, वाटर शेड, उद्यानिकी, पशुपालन आदि 10 विभाग के तकनीकी अधिकारियों का दल गठित कर मास्टर टेनर नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं। ये संबंधित विभाग के विषय-विशेषज्ञ प्रत्येक गांव में जाकर जीआई नक्शा तैयार कर उसी के आधार पर कृषि आधारित ग्रामीण अर्थव्यवस्था के सुदृढ़ीकरण तथा ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों जैसे नरवा (नदी-नाला), गरूवा (पशुधन), घुरूवा (जैविक खाद, वर्मी कम्पोस्ट) एवं बाड़ी (घर के बाड़ी में साग-सब्जी एवं फल) के समन्वित विकास, कृषि उत्पादन और किसानों के आमदनी बढ़ाने के लिए कार्ययोजना तैयार करेंगे।

राज्य स्तर के ये तकनीकी विशेषज्ञ मास्टर ट्रेनर के रूप में जिलों में जाकर संबंधित विभाग के अधिकारियों को शासन की इन योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए प्रशिक्षित करेंगे।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सीके खेतान, कृषि उत्पादन आयुक्त के.डी.पी. राव, सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी डी.डी. सिंह, सचिव राजस्व आपदा प्रबंधन एन.के. खाखा, सचिव कृषि हेमंत पहारे, विशेष सचिव जल संसाधन अविनाश चम्पावत और सलाहकार एच.के. हिंगरानी सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button