राष्ट्रीय

एक युवक ने अपनी बहन के घर में एक युवती के साथ फांसी लगाकर की आत्महत्या

बताया जा रहा है कि घटना के वक़्त युवक की बहन अपने मायके गई हुई थी

भीलवाड़ा: राजस्थान के भीलवाड़ा में शंभुगढ़ क्षेत्र एक युवक ने अपने बहन के घर में एक युवती के साथ फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जैसे ही इस घटना के बारे में पता चला तो गांव में सनसनी फ़ैल गई। बताया जा रहा है कि घटना के वक़्त युवक की बहन अपने मायके गई हुई थी।

साथ ही जो युवती है, वह पास के ही गांव की है। पुलिस ने बताया है कि प्रथम दृष्टया मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा लग रहा है। साथ ही दोनों के शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिए गए हैं और मौके से सुसाइड नोट भी बरामद किया गया।

प्रकरण में जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि घटना शंभुगढ़ क्षेत्र के नायकों का खेड़ा गांव की है। इसी गांव में मृतक की बहन सरोज का घर है और घटना के समय वह अपने मायके गई हुई थी। मृतक अर्जुन पास के इलाके में स्थित कपड़े की दूकान में काम करता था।

शनिवार की सुबह जब बहन सरोज वापस घर पहुंची तो अर्जुन एक युवती के साथ फंदे पर लटका हुआ मिला। यह सब देखकर वह हैरान-परेशान हो गई। इसके बाद पुलिस को घटना की सूचना दी गई साथ ही मृतका की पहचान पल्लवी शर्मा के तौर पर हुई है। वह नजदीक के ही गांव कोठिया की रहने वाली थी।

बताया जा रहा है कि युवती एक दिन पहले से ही लापता थी, जिसकी तलाश उसके परिजन कर रहे थे। जब शनिवार सुबह मृतकों की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो मृतका का भाई, अपनी बहन को पहचान गया उसके बाद वह अपने पिता के साथ मौके पर पहुंचा। उन्होंने बताया कि पल्लवी 11वीं क्लास में पढ़ती थी।

आखिर क्या लिखा था सुसाइड नोट में…

पुलिस को घटनास्थल से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। बताया जा रहा है इस सुसाइड नोट को युवती के द्वारा लिखा गया है। साथ ही इस नोट में दोनों ने एक रिश्तेदार समेत 5 लोगों को आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

नोट में लिखा है, ‘हम दोनों की कोई गलती नहीं थी। हम दोनों को मजबूर कर दिया गया था। साथ ही दिनेश जी पारीक सर ने हम दोनों की बेइज्जती भी की थी। इसमें भीलवाड़ा की मांचा नायक और उसके पिता गोपाल नायक भी शामिल हैं। इन सभी को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।’

नोट में आगे लिखा गया है कि पापा-मम्मी हो सके तो हमें माफ कर देना। पापा-मम्मी और हैप्पी भइया, हमारी कोई गलती नहीं है। मेरे भाई के छोटा बेबी (बेटा) हो तो उसका नाम अर्जुन (मृतक का नाम) रखना। हम दोनों के माता-पिता को सलामत रखना। हम दोनों वापस आएंगे।

हमारा वेट (इंतजार) करना। हम दोनों की बेइज्जती पांचू और अंकित ने करवाई है। मेरे बड़े पापा और बड़ी मम्मी का भी इसमें हाथ है। हम दोनों मर रहे हैं। बदला लेने वापस आएंगे। हालांकि, सुसाइड नोट में जिन लोगों का लिखा गया है, उस बारे में पुलिस का कहना है कि यह जांच का विषय है। हम अभी इन नामों पर हर एंगल से जांच कर रहे हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button