AAP पार्टी हाईकमान के निशाने पर पंजाब के बागी विधायक!

चंडीगढ़ : दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल द्वारा पंजाब के पूर्व राजस्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगने के बाद पंजाब में आम आदमी पार्टी दो फाड़ हो गई है. पार्टी का एक धड़ा अरविंद केजरीवाल के साथ खड़ा है तो दूसरे धड़े ने केजरीवाल से दूरी बनाते हुए उनके माफीनामे पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

यही कारण है कि पार्टी हाईकमान द्वारा रविवार को दिल्ली में आयोजित बैठक में 20 विधायकों में से सिर्फ 10 विधायक ही बैठक में पहुंचे. यानी आधे विधायक बागी हैं और उन्होंने हाईकमान को सीधे-सीधे यह कह दिया है कि अगर वो बात करना चाहते हैं तो उसके लिए चंडीगढ़ आएं. उधर बागी विधायकों की हेकड़ी से नाराज आम आदमी पार्टी हाईकमान ने साफ हिदायत दी है कि उनको अनुशासन में रहना होगा. जो भी विधायक पार्टी के खिलाफ जाएगा उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी.

अनुशासन के डंडे से घबराए पंजाब के विधायकों ने सोमवार को प्रस्तावित बैठक के आयोजन से गुरेज किया. यही नहीं पार्टी के खिलाफ बगावत के सुर बुलंद करने वाले पंजाब में नेता विपक्ष सुखपाल सिंह खैरा ने तो इस मुद्दे पर बात करने से ही इनकार कर दिया. सुखपाल सिंह खैरा ने कहा कि ‘मुझे पार्टी के मसले पर कुछ भी नहीं कहना, अगर कोई बात करनी होगी तो आपको बता दिया जाएगा.’

उधर केजरीवाल के माफीनामे से खड़े हुए विवाद को विपक्षी पार्टियां भुनाने में लगी हैं. अकाली दल नेता डॉ. दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि अरविंद केजरीवाल द्वारा माफी मांगे जाने से यह साबित हो गई है वह एक बड़बोले नेता हैं और वह लोगों को गुमराह करने के लिए कुछ भी बोल सकते हैं भले ही बाद में माफी मांगनी पड़े.

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पहले ही कह चुके हैं कि ‘मरे और मुकरे’ का कोई विश्वास नहीं किया जा सकता.

advt
Back to top button