छत्तीसगढ़

पट्टा सहित 4 सूत्रीय मांगों पर नगरी के आदिवासियों ने राजधानी में फिर बोला हल्ला

रायपुर:धमतरी के नगरी सिहावा अंचल के आदिवासियों के लिए 4 सूत्रीय मांगों को लेकर लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी ने राजधानी में एक बार फिर हल्ला बोला।

वन भूमि अधिकार अधिनियम की धारा के तहत पात्र हितग्राहियों को पट्टा मुहैया कराए जाने के लिए एक बार फिर राजधानी में अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू हो गया है। धमतरी के करीब 2000 आदिवासी राजधानी के बूढ़ा तालाब में धरने पर बैठ गए हैं।

समाजवादी पार्टी की ओर से चेतावनी दी गई है कि यदि उनकी चारों मांगों को शीघ्र पूरा नहीं किया गया तो वे लगातार आंदोलन पर डटे रहेंगे। लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय संरक्षक रघु ठाकुर ने कहा कि शासन में अधिकारी राज हावी है।

नगरी सिहावा के इन पात्र हितग्राहियों को पट्टा मुहैया कराने का आश्वासन दिया गया था लेकिन उसके बावजूद अब तक इन्हें पट्टा नहीं दिया गया है।

नगरी सिहावा के गांव उमरादेहान, ढेलकामर्री, देवभर्री, कुसुमभर्री में लोग 1950 के दशक से वन भूमि पर खेती कर रहे थे.

जिन्हें वर्ष 1987 में वन विभाग के अधिकारियों द्वारा बलपूर्वक हटा दिया गया। इसके बाद शासन की ओर से आश्वासन दिया गया कि इन पात्र हितग्राहियों को पट्टा मुहैया कराया जाएगा ,लेकिन अब तक इन आदिवासियों के हित में कोई कार्यवाही नहीं की गई।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.