सीआरपीएफ पर करीब 39 ग्रामीणों को उठाए जाने का आरोप

जगदलपुर।

सुकमा जिले के बुरकापाल एवं ताड़मेटला क्षेत्रों से सीआरपीएफ पर करीब 39 ग्रामीणों को उठाए जाने का आरोप ग्रामीणों ने लगाया है। इन्हें बुर्कापाल कैम्प में रखकर टार्चर करने का आरोप भी लगाया है। हांलाकि पुलिस ने इससे इंकार किया है। आप नेत्री सोनी सोरी ने इन ग्रामीणों को अदालत में पेश करने अथवा रिहा करने की मांग की है।

मिली जानकारी के अनुसार बीते 22 सितम्बर को सीआरपीएफ की पार्टी बुर्कापाल पहुंची थी। यहां से 13 ग्रामीणों को अपने साथ ले गई। इसी प्रकार 30 सितम्बर को 27 पुरूषों को हिरासत में लिया गया। इनमें से तीन बुजूर्गो को छोड़ दिया गया।

शेष अन्य ग्रामीणों को पुलिस ने सीआरपीएफ के बुर्कापाल कैम्प में रखा है। इलाके के ग्रामीणों ने आप नेत्री सोनी सोरी से मिलकर बताया है कि सीआरपीएफ के जवान मीटिंग में जाने की बात कहते ग्रामीणों को ले गए थे।

छोड़े गए बुजूर्गो ने कैम्प में ग्रामीण युवकों को प्रताड़ित करने की बात भी कही है। ग्रामीणों के गिरफ्तारी की किसी प्रकार की सूचना परिजनों को नहीं दी जा रही है। सोरी ने मामले में पकड़े गए ग्रामीणों को रिहा करने अथवा अदालत में पेश किए जाने की मांग की है। ज्ञात हो कि बुर्कापाल के पास 21 सितम्बर में नक्सलियों द्वारा आईईडी की चपेट में आकर किसान सोढी कोसा की मौत हो गई थी। इसके बाद से सर्चिंग की जा रही थी।

सोढी गंगा पिता नंदा, मड़कम मासा पिता कोसा, माडवी भीमा पिता जोगा, माडवी हुंगा पिता कोसा, सोढी गंगा पिता हुंगा, मडकम हिडमा पिता नंदा, मुचाकी नंदा पिता मुका,वंजाय पोज्ज पिता गंगा व माडवी भीमा पिता पावा सभी निवासी बुर्कापाल।

दुद्दी हुंगा, मडकाम केसा, वंजाम हुंगा, माडवी सोमरा, वंजाम केशा, माडवी सिंघा, मुचाकी हिंगा, मुचाकी बुधरा, वंजाम सोमरा, माडवी सोमरा, रवा हिडमा, मीडियम लकमे, माडवी हिडमा, मडकाम हिडमा, माडवी हडमा पिता भीमा, माडवी देवे, मद्काम सुला, माडवी गंगा, माडवी पोज्जा, सोडी कोसी, सोडी हुर्रा, बाडसे नंदा, बाडसे आयता।

‘ब्लास्ट से एक महिला समेत दो ग्रामीणों की मौत मामले में करीब 14 ग्रामीणों को गिरफ्तार किया गया है। उनके कब्जे से विस्फोटक पदार्थ भी मिला है। अन्य ग्रामीणों को पूछताछ उपरांत छोड़ा गया है।’ -अभिषेक मीणा एसपी सुकमा।

Back to top button