आचार्य जिन पीयूष सागर का 9 अप्रेल गोबरा नवापारा नगर आगमन

- दीपक वर्मा

अभनपुर: गोबरा नवापारा नगर में जिन महोदय सागर सूरी जी म.सा.के सुशिष्य लब्धिनिधान पार्श्व तीर्थ नमिउन तीर्थ एवम जोगिपहाडी तीर्थ प्रणेता शासन प्रभावक पूज्य जिन पीयूष सागर सूरीश्वर जी म.सा.अपने सुशिष्यों के साथ 9 अप्रेल मंगलवार को नगर पदार्पण कर रहे हैं।

स्थानीय धर्मप्रेमी बन्धु डॉ राजेन्द्र गदिया के निवास के सामने पूज्य गुरु भगवंतों की अगवानी करेंगे। जहां से ठीक प्रातः 8.30 बजे पूज्य गुरु भगवंत सकल संघ के साथ शोभायात्रा में बाजे गाजे एवम जयकारों के साथ नगर पदार्पण करेंगे। इस प्रसंग पर मुख्य मार्गों को स्वागत बैनरों से सजाया जा रहा है।

शोभायात्रा सदररोड, पुराना बसस्टेंड, महावीर चौक होते हुए स्थानीय जैन श्वेताम्बर मंदिर प्रांगण पहुचेगी जहां देवगुरु दर्शन के पश्चात धर्मसभा का आयोजन मंदिर प्रांगण में किया गया है। इस अवसर पर स्थानीय धर्म प्रेमी बंधुओं के साथ अंचल के भी धर्मप्रेमी बन्धु अपनी उपस्थिति प्रदान करेंगे। दोपहर 2.30 बजे मंदिर प्रांगण में अनन्त उपकारी दादा गुरुदेव की पूजा रखी गई है।

आज के प्रवेश प्रसंग पर प्रातः नवकारसी का लाभ लीलादेवी अजय कोचर परिवार ने दोपहर द्वारा दोपहर साधर्मिक वात्सल्य का लाभ ऋषभचंद्र राजेश बोथरा परिवार एवं संध्या गुरुपूजन व गुरुप्रसादी का लाभ संघरत्न गौतमचंद वैभव कुमार पारख परिवार ने लिया है।

संध्या 8 बजे मंदिर प्रांगण में गुरुभक्ति का कार्यक्रम आयोजित है संघप्रमुख अशोक बोथरा ने सकल संघ सदस्यों से दोपहर 11 बजे तक व्यापार को विश्राम देकर आयोजित सभी कार्यक्रमों में अपनी सुनिश्चित उपस्थिति की अपील की है।

ज्ञातव्य रहे कि आचार्य ने चौतीस वर्ष पूर्व सांसारिक जीवन को छोडकर वैराग्य का मार्ग अपनाया, संयम जीवन मे लगभग 50000 किलोमीटर की पदयात्रा करते हुए उत्तर से दक्षिण पूर्व से पश्चिम धर्म की ध्वजा फहराई है।

आचार्य जिन कैलाश सागर सूरी जी म.सा.की आज्ञा से खरतरगच्छ महासंघ द्वारा सैकड़ों संघों के सदस्यों की उपस्थिति में नागपुर नगर में आपको नवकार मन्त्र के तृतीय पद नमो आयरियाणं अर्थात आचार्य पद पर शोभायमान किया गया था। ततपश्चात आपका यह प्रथम गृह नगर आगमन है.

Back to top button