इमरान सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाले विपक्षी नेताओं पर कार्रवाई जारी

नेता प्रतिपक्ष एवं पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष शहबाज शरीफ को किया गया गिरफ्तार

इस्लामाबाद:सात अरब रुपये के धनशोधन मामले में लाहौर उच्च न्यायालय द्वारा जमानत याचिका खारिज होने के बाद नेता प्रतिपक्ष एवं पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष शहबाज शरीफ को सोमवार को गिरफ्तार किया गया. इस पूरे घटनाक्रम को प्रधानमंत्री इमरान खान से जोड़कर देखा जा रहा है.

PMLN के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने इमरान खान को सत्ता से हटाने के लिए विपक्षी एकता की वकालत की थी. साथ ही अगले महीने खान के इस्तीफे की मांग को लेकर उनकी पार्टी विरोध-प्रदर्शन करने वाली थी. इसलिए माना जा रहा है कि इमरान खान के इशारे पर ही शरीफ की गिरफ्तारी की गई है.

कोर्ट परिसर से गिरफ्तारी

अदालत द्वारा जमानत अर्जी खारिज होने के तुरन बाद कोर्ट परिसर से ही उन्हें गिरफ्तार किया गया. भ्रष्टाचार रोधी इकाई राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (NAB) के अधिकारी उन्हें लाहौर हिरासत केंद्र ले गए हैं.

मालूम हो कि इमरान खान सरकार ने पिछले सप्ताह पूर्व पीएम नवाज शरीफ के भाई शहबाज और उनके परिवार के खिलाफ धनशोधन का मामला दायर किया था. शहबाज शरीफ 2008 से 2018 तक पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री थे.

प्रतिशोध की कार्रवाई

पीएमएल-एन की लीडर और नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज ने इस कार्रवाई को राजनीती प्रतिशोध करार दिया है. उन्होंने कहा कि शहबाज शरीफ को केवल इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा है, क्योंकि उन्होंने ऐसे लोगों के हाथों इस्तेमाल होने से इनकार कर दिया जो उनके बड़े भाई को निशाना बना रहे हैं’. मरयम ने कहा कि प्रतिशोध की यह कार्रवाई उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं का हौसला नहीं तोड़ सकती.

ये हैं आरोप

प्रधानमंत्री के आंतरिक और जवाबदेही मामलों के सलाहकार शहजाद अकबर ने हाल ही में कहा था कि शहबाज और उनके बेटों- हमजा तथा सलमान ने फर्जी खातों के जरिए धनशोधन को अंजाम दिया था.

वित्तीय निगरानी इकाई ने शहबाज के परिवार के 177 संदिग्ध लेन-देन का पता लगाया था, जिसके बाद NAB ने जांच शुरू की. उन्होंने आरोप लगाया कि शहबाज और उनके बच्चों के स्वामित्व वाली कंपनियों ने कर्मचारियों के जरिए करोड़ों रुपये का धनशोधन किया गया.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button