राष्ट्रीय

रेलवे संबंधित फर्जी विज्ञापन जारी करने वाली एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई शरू

यह सूचित किया जाता है कि रेलवे में भर्ती के लिए हमेशा भारतीय रेलवे ही विज्ञापन जारी करता है

नई दिल्ली: रेलवे में करीब पांच हजार पदों को भरने के लिए एक फर्जी विज्ञापन जारी करने के मामले में एक निजी एजेंसी के खिलाफ रेलवे ने कार्रवाई शुरू कर दी है. उल्लेखनीय है कि यह विज्ञापन प्रमुख अखबारों में प्रकाशित किया गया था. जिसमें कहा गया कि रेलवे ने आठ श्रेणियों में 5,285 पदों को भरने के लिए आवेदन आमंत्रित किया है.

मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा, ”रेल मंत्रालय के संज्ञान में आया कि एक संगठन जिसका नाम ‘अवेस्ट्रान इंफोटेक’ है. जिसने आठ अगस्त 2020 को प्रमुख अखबारों में विज्ञापन दिया और ऑउटसोर्सिंग के आधार पर भारतीय रेलवे में 11 साल तक संविदा पर काम करने के लिए आठ श्रेणियों में 5,285 पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किया. आवेदकों से 750 रुपये बतौर आवेदन शुल्क ऑनलाइन जमा कराने को कहा गया. विज्ञापन में आवेदन करने की अंतिम तारीख 10 सितंबर 2020 बताई गई है.”

रेलवे संबंधित एजेंसी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा

मंत्रालय ने कहा, ”यह सूचित किया जाता है कि रेलवे में भर्ती के लिए हमेशा भारतीय रेलवे ही विज्ञापन जारी करता है, कोई निजी एजेंसी इसके लिए अधिकृत नहीं है. अत: उक्त विज्ञापन जारी करना गैर कानूनी है.” मंत्रालय ने कहा कि रेलवे संबंधित एजेंसी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा.

मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि भारतीय रेलवे में समूह ‘ग’ और ‘घ’ श्रेणी की विभिन्न श्रेणियों में भर्ती मौजूदा समय में 21 रेलवे भर्ती बोर्ड और 16 रेलवे भर्ती प्रकोष्ठ करते हैं, ना कि कोई अन्य एजेंसी. मंत्रालय ने कहा कि रेलवे में भर्ती केंद्रीकृत रोजगार अधिसूचना के जरिये होती है जिसे व्यापक तौर पर प्रचारित किया जाता है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button