बेजा कब्जे को हटाने के लिए शासन कर रही मनमानी अब तक नहीं हुई कार्यवाही

जैजैपुर: ग्राम पंचायत सेंदरी के समस्त ग्रामवासियों द्वारा दिनांक 1 जुलाई 2019 को जिला कलेक्टर महोदय को ज्ञापन दिया था! जो ग्राम में स्थित एकमात्र खेल के मैदान पर गांव के लोगों द्वारा अतिक्रमण को हटाने के लिए था!किंतु शासन-प्रशासन की ढीली कार्रवाई की वजह से अब तक इस संज्ञान में कोई भी कार्यवाही नहीं हुई है ! ग्राम वासियों द्वारा जैजैपुर तहसीलदार महोदय जी को को दो बार और ज्ञापन दिया जा चुका है किंतु शासन इस पर कोई कार्यवाही नहीं कर रही है ।

जिससे ग्राम पंचायत सेंदरी के युवाओं का भविष्य खतरे में आ गया है ग्राम वासियों का कहना है कि गांव में खेल के लिए एकमात्र मैदान है जिसमें अतिक्रमण के कारण गांव के बच्चे पुलिस ,सेना, एस आई जैसे सुरक्षाबलों की तैयारी नहीं कर पा रहे हैं। ग्राम पंचायत सेंदरी के युवाओं का भविष्य खतरे की ओर अग्रसर है । ग्राम में एकमात्र मैदान होने के कारण लोग बाग अपने दैनिक में सम्पूर्ण रूप से मैदान पर निर्भर है । गाँव के बच्चे मैदान में फुटबॉल, क्रिकेट, सुरक्षाबलों की तैयारी करते है साथ ही बरसात ,और ठंड के मौसम में गांव के मवेशियो को मैदान में चराने के लिए उपयोग लाया जाता है!

अतिक्रमण के कारण युवा निराश होकर बड़ी परेशानी से जूझ रहे हैं शासन-प्रशासन की आला-ढीली कार्यवाही के कारण युवाओं का भविष्य आज खतरे में लटक रहा है! दो बार तहसील कार्यालय में शिकायत के बाद भी ,आवेदन लगाने के बाद भी आज कार्यवाही नहीं हुई है ! ग्राम पंचायत सेंदरी के सरपंच महोदय द्वारा शिकायत करने के बावजूद भी शासन-प्रशासन कार्यवाही नहीं कर रही है ! यदि एक जनप्रतिनिधि की बात नहीं सुनी जा रही है तो आप जिले के अंदर अनुमान लगाइए की एक गरीब तबके की जनता की आवाज कहां सुनी जाती होगी ।

कलेक्टर महोदय को 01 जुलाई को ज्ञापन सौंपा गया! कलेक्टर महोदय भी इस संज्ञान में अबतक कोई कार्यवाही नहीं ले रहे हैं ! ग्राम वालों का कहना है कि यदि कलेक्टर महोदय जल्द से जल्द अतिक्रमण नहीं हटाते तो तहसीलदार कार्यालय का घेराव होगा और उग्र आंदोलन समस्त ग्राम निवासियों द्वारा किया जाएगा ! गांव के बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा!

अगर शासन प्रशासन ने जल्द ही कार्यवाही नहीं किया तो गांव वालों ने जिला कलेक्टर को चेतावनी देते हुए कहा है कि जैजैपुर के अंदर चक्का जाम होगा ! जिसमें संपूर्ण मानहानि की जवाबदेही जिला प्रशासन की होगी!

Back to top button