शिशुओं की मौत मामले में अडानी समूह के अस्पताल को क्लीन चिट

अहमदाबादः गुजरात के कच्छ में अडानी फाउंडेशन के अस्पताल जी.के. जनरल हॉस्पिटल में हुई 111 नवजात शिशुओं की मौत की जांच कर रही तीन सदस्यीय समिति ने अस्पताल प्रबंधन की ओर से किसी तरह की चूक नहीं पाई है।

अधिकारियों ने बताया कि कल राज्य सरकार को सौंपी अपनी रिपोर्ट में समिति ने कहा कि इन मौतों के पीछे मुख्य कारण कुपोषण और नवजात शिशुओं को भर्ती कराने में हुई देरी है। यह अस्पताल कच्छ जिले के भुज में स्थित है और इसका प्रबंधन अडानी फाउंडेशन करता है।

राज्य स्वास्थ्य आयुक्त डॉक्टर जयंती रावी ने कहा, समिति ने पाया कि अस्पताल में पर्याप्त सुविधाएं , उपकरण और दवाएं उपलब्ध थीं। इन मौतों के पीछे मुख्य कारण अत्याधिक कुपोषण और शिशुओं को इस अस्पताल में रेफर करने में देरी थी। अस्पताल द्वारा 25 मई को साझा किए गए डेटा के मुताबिक इस साल एक जनवरी से 20 मई के दौरान अस्पताल में जन्मे और बाहर से यहां भर्ती किए गए कुल 777 शिशुओं में 111 की मौत हो गई।

गुजरात अडानी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि जांच समिति ने अस्पताल को क्लीन चिट दी है।

new jindal advt tree advt
Back to top button