छत्तीसगढ़

ओपी जिंदल विश्वविद्यालय में सॉफ्ट कंप्यूटिंग पर एडजंक्ट व्याख्यान

रायगढ़

सॉफ्ट कंप्यूटिंग उन पद्धतियों का एक समूह है जो सहक्रियात्मक रूप से काम करता है और वास्तविक जीवन की विशेष परिस्थितियों को संभालने की क्षमताओं को प्रदान करता है। सॉफ्ट कंप्यूटिंग का उपयोग और महत्व इंजीनियरिंग के क्षेत्र में दिन-दर-दिन बढ़ रहा है। सॉफ्ट कंप्यूटिंग के अनुप्रयोगों और महत्व को ध्यान में रखते हुए, इलेक्ट्रिकल एन्ड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग, स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग, ओपी जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़ ने 5-6 अक्टूबर, 2018 के दौरान दस घंटे का व्याख्यान विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित किया।

व्याख्यान का उद्देश्य छात्रों को एक क्रॉस-कल्चरल माहौल में हालिया प्रवृत्तियों और सॉफ्ट कंप्यूटिंग तकनीकों के अनुप्रयोग को सीखाना और उन्हें प्रमुख विशेषज्ञों द्वारा सॉफ्ट कंप्यूटिंग के तकनीकों, अनुप्रयोगों और हाल के शोध मुद्दों पर व्यापक चर्चा करने का अवसर प्रदान करना था। । व्याख्यान के लिए प्रमुख वक्ता डॉ. राहुल कुमार चौरसिया, प्रोफेसर, इलेक्ट्रिकल एन्ड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंगविभाग, एनआईटी रायपुर थे। उन्होंने ‘सॉफ्ट कंप्यूटिंग के अनुप्रयोगों के साथ विद्युत उत्पादों के डिजाइन और विकास’ पर बातचीत की और इलेक्ट्रिकल एन्ड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग के अंतिम वर्ष के छात्रों के साथ अपने व्यापक वैश्विक अनुभव और चुनौतियों को साझा किया।

डॉ. राहुल ने सॉफ़्ट कंप्यूटिंग के क्षेत्र में महत्वपूर्ण मुद्दों और उनसे जुडी बातों जैसे कई अनुकूलन तकनीकों, कृत्रिम तंत्रिका नेटवर्क, अस्पष्ट तर्क और मशीन सीखने सहित विषयों पर विशेष रूप से चर्चा किया। बी.टेक के अंतिम वर्ष के छात्र (ईईई) और संकाय सदस्यों ने व्याख्यान में भाग लिया। व्याख्यान प्रतिभागियों के लिए बहुत ही संवादात्मक और उपयोगी था। व्याख्यान के अंत में डॉ. श्रीकांत प्रसाद,विभागाध्यक्ष, इलेक्ट्रिकल एन्ड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग ने व्याख्यान के सफल आयोजन के लिए अतिथि और प्रतिभागियों और कार्यक्रम समन्वयक डॉ सुश्री दिप्तिमयी स्वैन का धन्यवाद किया।

jindal