एडमिरल वर्मा ने वापस लिया केस, एडमिरल करमबीर सिंह की नियुक्त पर जताया था एतराज

नई दिल्ली : वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को नौसेना का अगला प्रमुख नियुक्त किए जाने के खिलाफ वाइस एडमिरल बिमल वर्मा ने दायर अपनी याचिका को वापस ले लिया है। दरअसल, आर्मड फोर्स ट्रेब्यूनल ने उन्हें अपनी शिकायत के लिए पहले रक्षा मंत्रालय से संपर्क करने के लिए कहा था।

नियमों के अनुसार, वाइस एडमिरल वर्मा के पास कानूनी शिकायत दर्ज कराने से पहले रक्षा मंत्री के पास वैधानिक शिकायत दर्ज करने का विकल्प था। उन्होंने एडमिरल सुनील लांबा की जगह अगले नौसेना प्रमुख के रूप में वाइस एडमिरल करमबीर सिंह की नियुक्ति को चुनौती देने वाले न्यायाधिकरण से संपर्क किया था। नियम के मुताबिक अगर वो अपनी शिकायत को रक्षा मंत्रालय द्वारा संबोधित किए जाने के बाद भी नहीं होता तो वह अदालत का दरवाजा खटखटा सकता थे।

कोर्ट ने याचिकाकर्ता से सवाल किया कि जब उनके पास रक्षा मंत्रालय जाने का विकल्प था तो उन्होंने कोर्ट का दरवाजा क्यों नहीं खटखटाया। वकील ने इसका जवाब देते हुए कहा कि उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि ये उनके पास ये विकल्प भी है। कोर्च ने संदेह का लाभ देते हुए यातिकाकर्ता को याचिका वापस लेने की अनुमति दे दी।

दरअसल, विमल वर्मा ने एतराज जताया था कि वरिष्ठ होने के नाते एडमिरल करमबीर सिंह को नौसेना का अलहा प्रमुख क्यों किया जा रहा है। वर्तमान एडमिरल लांबा 30 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार ने यह चयन मेरिट आधारित रूख अपनाते हुए किया और पद पर वरिष्ठतम अधिकारी को नियुक्त करने की परंपरा का पालन नहीं किया।

Back to top button