सिजेरियन ऑपरेशन के बाद मह‍िला के पेट में रह गया रुई का गोला, मौत

तक पूजा के पति ने डॉक्टर के लापरवाही की शिकायत अस्पताल प्रशासन, पुलिस प्रशासन से की

मुंबई:महाराष्ट्र में बुलढाणा के संग्रामपुर तहसील के कवठल की पूजा पाखरे को प्रसूति के लिए 7 अप्रैल को खामगांव उप-जिला सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था. नॉर्मल डिलीवरी नहीं होने के कारण पूजा का सिजेरियन ऑपरेशन किया गया जहां उसने एक फूल से बच्चे को जन्म द‍िया.

ड‍िलीवरी के 4 से 5 दिन बाद पूजा के पेट मे अचानक तेज दर्द उठा. उसे 11 अप्रैल को अकोला के सरकारी अस्पताल में रेफर किया गया. तबीयत ठीक होने के बाद 19 अप्रैल को घर लाया गया लेकिन 10 जून को फिर दर्द उठा.

परिवार वाले उसे खामगांव के डॉक्टर अरविंद पाटिल के अस्पताल ले गए. वहां उसकी सोनोग्राफी की गई तो पता चला कि उसके पेट में कुछ है. पूजा के पति ने उसे इलाज के लिए मायके भेजा. वहां पर शरद काले नामक डॉक्टर ने उसका ऑपरेशन किया तो पेट में से बैंडेज (कपास का गोला) निकला.

दोबारा हुए ऑपरेशन की त्रासदी से पूजा को ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ी तो उसे बुलढाणा के सहयोग अस्पताल में भर्ती किया गया लेकिन पूजा को पॉइजनिंग हो गई. इलाज के दौरान पूजा की मौत हो गई और अपने 2 महीने बच्चे को छोड़ गई.

मृतक पूजा के पति ने डॉक्टर के लापरवाही की शिकायत अस्पताल प्रशासन, पुलिस प्रशासन से की है. बुलढाणा के सिविल सर्जन डॉक्टर नितिन तडस ने बताया कि हमे इस संदर्भ में शिकायत मिली है. मामले की जांच के लिए 6 लोगों की जांच समिति बनाई है. जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button