महागठबंधन में शामिल होने के बाद बोले कुशवाहा, राहुल गांधी की कथनी-करनी में फर्क नहीं

नई दिल्ली।

2019 लोकसभा चुनाव (Loksabha Election 2019) में सीटों के बंटवारे को लेकर गुरुवार को हुई बिहार महागठबंधन (Mahagathbandhan) के नेताओं सफल रही। इस बैठक में तय हो गया कि कौन सी पार्टी कितनी सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। इस बैठक में एनडीए (NDA) से हाल ही में अलग हुए रालोसपा नेता उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) भी शामिल हुए और इस बैठक के बाद महागठबंधन में शामिल होने का ऐलान किया।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि शिक्षा की जो हमारी मांग है उसमें आरजेडी ने हमारा साथ दिया है। दो फरवरी को हम इसके खिलाफ रैली करने जा रहे हैं। उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि राहुल गांधी ने किसानों का कर्ज माफी का वादा किया था और सरकार बनने के बाद पहला किसानों की कर्ज माफी का किया.

कुशवाहा ने कहा, 2014 में एनडीएम में शामिल हुआ था और लोकसभा चुनाव से पहले पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि पढ़ाई, दवाई और कमाई के लिए बिहार से बाहर नहीं जाना होगा। लेकिन नौजवान आज भी बड़ी संख्या में बाहर जा रहे हैं। कथनी और करनी में बहुत फर्क देखा। सरकार में रहते हुए कई बार मामला उठाया लेकिन उसके बाद उन्होंने मुझे बर्बाद करने की कोशिश की। हमारी सीटें कम की गई।

तेजस्वी ने कहा, बिहार को डबल इंजन की सरकार कहा जाता है। एक इंजन अपराध तो दूसरा भ्रष्टाचार में लिप्त है। तेजस्वी यादव ने कहा, महागठबंधन में उपेंद्र कुशवाहा शामिल हुए है और मैं इसके लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं। ये दलों का नहीं दिलों का गठबंधन है। उन्होंने कहा कि यह संविधान और देश को बचाने के लड़ाई है। सीबीआीई, ईडी और आरबीआई को बचाने की लड़ाई है। कुछ लोगों के हित के लिए किसानों के हित को नजरंदाज किया गया। बीजेपी ने घटकदलों के साथ भी अच्छा व्यवहार नहीं किया है।

दोस्ती और खुदगर्जी के लिए नहीं बल्कि देशहित में गठबंधन किया है। सही वक्त पर सही फैसला लिया और यह गठबंधन बिहार-राष्ट्रहित में काम करना है। कांग्रेस नेता शाक्ति सिंह गोहिल ने कहा, मंत्री पद छोड़कर एनडीए से नाता तोड़ा और यूपीए में हमारे साथ जुड़ रहे हैं।

advt
Back to top button