अंतर्राष्ट्रीयबड़ी खबरराष्ट्रीय

पैंगोंग के बाद डेपसांग, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पीछे हटेगी चीनी सेना, सैन्य कमांडरों की बैठक आज

पूर्वी लद्दाख मेें पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सैनिकों एवं हथियारों को हटाने का काम पूरा करने के बाद भारत और चीन शनिवार को एक और दौर

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख मेें पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सैनिकों एवं हथियारों को हटाने का काम पूरा करने के बाद भारत और चीन शनिवार को एक और दौर की उच्चस्तरीय सैन्य वार्ता करेंगे, ताकि पूर्वी लद्दाख में हॉट स्प्रिंग्स, गोग्रा और देपसांग क्षेत्रों से भी सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा सके।

मोल्डो में होगी बैठक

सेना के सूत्रों ने जानकारी दी है कि बैठक में भारत फिंगर इलाके में पूर्व की भांति गश्त आरंभ करने पर भी जोर देगा। कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीन की ओर मोल्डो में सुबह 10 बजे शुरू होगी।

पैंगोंग झील पूरी तरह खाली

सूत्रों ने बताया कि चीनी सेनाएं पैंगोंग इलाके के साथ-साथ रेजांग ला और रेचिन ला से पीछे हट चुकी है। तय समझौते के अनुरूप भारत ने भी अपनी सेनाओं को पीछे हटाया है। दोनों देशों की सेनाओं के बीच हुए समझौते में पैंगोंग लेक इलाके को खाली करने के 48 घंटे के भीतर वरिष्ठ सैन्य कमांडरों की बैठक बुलाने पर सहमति बनी थी। सूत्रों ने कहा कि पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सैनिकों की वापसी, अस्त्र-शस्त्रों तथा अन्य सैन्य साजो-सामान और बंकरों, तंबुओं तथा अस्थायी निर्माणों को हटाने का काम गुरुवार को पूरा हो गया एवं दोनों पक्षों ने इसकी भौतिक पड़ताल कर ली है।

सूत्रों ने संकेत दिया कि शनिवार को होने वाली वार्ता में भारत क्षेत्र में तनाव कम करने के लिए शेष इलाकों से सैनिकों की जल्द वापसी पर जोर देगा।शनिवार को होने वाली वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन करेंगे जो लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर हैं। वहीं, चीनी पक्ष का नेतृत्व मेजर जनरल लिउ लिन करेंगे जो चीनी सेना के दक्षिणी शिनजियांग सैन्य जिले के कमांडर हैं। भारत और चीन के बीच सैन्य गतिरोध को नौ महीने हो गए हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button