पद से इस्तीफ़ा देने के बाद बोले राज बब्बर

राज बब्बर ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्‍तीफा देने के बाद कहा है कि मौजूदा समय कांग्रेस में नई व्‍यवस्‍थाएं हो रही हैं. पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी द्ववारा जो भी नई जिम्‍मेदारी दी जाएगी, हम उसे स्‍वीकार करेंगे और 2019 के लिए काम करने के लिए आगे बढ़ेंगे

राज बब्बर ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्‍तीफा देने के बाद कहा है कि मौजूदा समय कांग्रेस में नई व्‍यवस्‍थाएं हो रही हैं. पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी द्ववारा जो भी नई जिम्‍मेदारी दी जाएगी, हम उसे स्‍वीकार करेंगे और 2019 के लिए काम करने के लिए आगे बढ़ेंगे.

बता दें कि पिछले दिनों हुए कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन में पार्टी को नया रूप देने के लिए कई घोषणाएं की गई थी. इसी महाधिवेशन में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी को कांग्रेस वर्किंग कमेटी के पुनर्गठन की भी कमान सौंपी गई थी. माना जा रहा है कि इसी के बाद से पार्टी में बदलाव शुरू हो गए हैं.

राज बब्‍बर ने यह भी कहा है कि ‘मैं जो भी कहना चाहता हूं, वो मैं पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी से बात करने के बाद कहता हूं. हालांकि अभी उनका इस्‍तीफा मंजूर नहीं हुआ है. इससे पहले गुजरात और गोवा के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी पद छोड़ चुके हैं.’

कांग्रेस ने पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीब्ल्यूसी) के पुनर्गठन के लिए 18 मार्च को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को अधिकृत किया था. उन्‍हें इसके गठन की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है.

पार्टी के 84वें महाधिवेशन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने सीडब्ल्यूसी के पुनर्गठन के लिए कांग्रेस अध्यक्ष को अधिकृत करने का प्रस्ताव पेश किया था. इसका अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यों ने हाथ उठाकर समर्थन किया. राहुल गांधी को पिछले साल दिसंबर में गुजरात विधानसभा चुनाव के समय पार्टी का अध्यक्ष चुना गया था.

कांग्रेस ने पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीब्ल्यूसी) के पुनर्गठन के लिए 18 मार्च को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को अधिकृत किया था. उन्‍हें इसके गठन की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है.

पार्टी के 84वें महाधिवेशन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने सीडब्ल्यूसी के पुनर्गठन के लिए कांग्रेस अध्यक्ष को अधिकृत करने का प्रस्ताव पेश किया था. इसका अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यों ने हाथ उठाकर समर्थन किया. राहुल गांधी को पिछले साल दिसंबर में गुजरात विधानसभा चुनाव के समय पार्टी का अध्यक्ष चुना गया था.

advt
Back to top button