मौत के बाद भी पिता का वोटिंग लिस्ट में नाम, जीवित बेटे का गायब

रायपुर।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में कई मतदाता वोटर लिस्ट में नाम नहीं होने से मतदान करने से वंचित रह गए। ऐसा ही एक मामला उत्तर विधानसभा का सामने आया है। वार्ड 44 निवासी निमिष जैन ने बताया कि उनका परिवार पिछले 20 सालों से यहां निवास कर रहा है। वे विधानसभा व लोकसभा चुनाव में भी अपने मत का प्रयोग करते आए हैं। कुछ समय पहले उनके पिता की मृत्यु हो गई।

चुनाव से वार्ड में लगे शिविर में उन्होंने पिता का नाम सूची से हटाने और अपना नाम सुधरवाने के लिए फार्म भरा। 20 नवम्बर को मतदान करने वे पहुंचे तो पता चला कि उनका नाम सूची में नहीं है। उनकी जगह पिता का नाम दर्ज है।

इससे वे वोट देने से वंचित रह गए। इसी तरह निधि सिंह ने बताया कि वे ये सोचकर मतदान करने गए थे कि उनका नाम मतदाता सूची में होगा। लेकिन उन्हें मायूस होकर बिना मतदान किए केन्द्र से लौटना पड़ा।

उनका कहना है कि पिछले करीब 50 वर्षों से राजधानी में रह रहे हैं, लेकिन नाम मतदाता सूची से गायब है। परिवार का एक भी वोट वोटर लिस्ट में नहीं चढ़ा हुआ है, जिससे वे भी इस बार अपने मत का प्रयोग करने से वंचित रह गए हैं।

मामले में एडीएम एसके अग्रवाल का कहना है कि अगले माह से फिर मतदाता सूची में नाम जोडऩे का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। जो लोग छूट गए है वे फिर से आवेदन कर सकते हैं।

1
Back to top button