निर्दोष ग्रामीण की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने किया नक्सलवाद का पुतला दहन

जगदलपुर।

बुरकापाल में नक्सलियों द्वारा लगाए गए आईईडी की चपेट में आकर एक आदिवासी किसान की मौत के बाद संजय बाजार चौक में नक्सलवाद का पुतला दहन कर अपना विरोध प्रदर्शित किया। पुतला दहन के दौरान शामिल नक्सल विरोधी संस्था अग्नि के राष्ट्रीय संयोजक आनंद मोहन मिश्र, संस्थापक सदस्य संपत झा, सुब्बाराव एवं अग्नि के सदस्यों ने नक्सलवाद के विरोध में जमकर नारेबाजी की।

पुतला दहन के बाद संस्था अग्नि द्वारा जारी बयान में नक्सलियों पर सुकमा जिले के बुरकापाल निवासी आदिवासी कृषक सोड़ी कोसा की हत्या का आरोप लगाया। अग्नि ने नक्सलवादियों द्वारा बस्तर अंचल में जगह-जगह जमीन के अंदर लगाए गए बारूद की वजह से लगातार हो रही मौतों पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया। उन्होने नक्सलियों के कायराना करतूत की निंदा की।

सुकमा में बीते कल नक्सलियों के आईईडी की चपेट में आने से एक निर्दोष ग्रामीण की मौत हो गई थी। घटना की जानकारी की बाद मौके पर पुलिस पहुंची हुई थी लेकिन शव नहीं मिला था जिसके बाद पुलिस ने आज मृतक ग्रामीण का शव बरामद कर लिया है। निर्दोष ग्रामीण की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने किया नक्सलवाद का पुतला दहन

बता दें घोर नक्सल क्षेत्र बुर्कापाल इलाके में नक्सलियों के आईईडी की चपेट में आने से एक ग्रामीण की मौत हो गई थी। मृतक का शव आज बुर्कापाल CRPF कैम्प से थोड़ी दूरी पर बरामद किया गया है। मृतक की पहचान सोढ़ी कोसा (47) के रूप में की गई है। बताया जा रहा है कि मृतक के 3 छोटे बच्चे हैं। घटना के बाद से ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

दरअसल ग्रामीण सोढ़ी कोसा कल शुक्रवार की रात को अपनी खेत की रखवाली करने निकला हुआ था। तभी अचानक वह नक्सलियों द्वारा लगाए गए आईईडी बम की चपेट में आ गया। धमाका इतना भयानक था की पुलिस ने पेड़ पर लटके मृतक के कपड़े बरामद किए थे।

Back to top button