अजीत जोगी का जन्मदिन 29 अप्रैल सादगीपूर्ण ‘मितान दिवस’ के रूप में मनाया जायेगा

रायपुर : जकाछ मीडिया प्रमुख एवं पूर्व उपमहापौर इक़बाल अहमद रिज़वी ने एक विज्ञप्ति जारी कर सूचित किया है कि गरीब, पिछड़ों, मेंहनतकश छत्तीसगढ़ियोँ के हितैषी जननेता श्री अजीत जोगी का जन्मदिवस 29 अप्रैल को इस वर्ष सादगी के साथ “मितान दिवस” के रूप में मनाया जायेगा | श्री जोगी जी ने निर्णय लिया है कि इस वर्ष आतंकवादी एवं नक्सल हिंसा को दृष्टिगत रखते हुए किसी प्रकार का भव्य उत्सव नही मनाया जायेगा।

जोगी ने कहा है कि पुलवामा के आतंकी हमले में कई जवान शहीद हो गये, छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा क्षेत्र में नक्सल हमले में विधायक श्री भीमा मंडावी सहित चार जवान शहीद हुये, न्यूज़ीलैंड के मस्जिदों और श्रीलंका के चर्चों में हमला कर सैकड़ों निर्दोष नागरिकों को आतंकियों द्वारा हलाक कर दिया गया है। उन्होंने आगे कहा है कि उपरोक्त दर्दनाक एवं अमानुषिक घटनाओं के कारण जन्मदिन का उत्सव मनाना उचित नहीं है। इस समय जोगी सपरिवार छत्तीसगढ़ से बाहर रहेंगे, अतः जन्मदिन को सादगीपूर्ण ढंग से निम्नानुसार मनाया जाना तय किया गया है :-

1. “मितान दिवस” को अपने अपने घरों, कार्यालयों (ब्लॉक- जिला) में मनाएँ एवं प्रदेश मेंभाईचारा बढ़ाने के लिए कम से कम एक-एक मितान अवश्य बनायें। इस अवसर पर श्री अजीत जोगी जी द्वारा लिखित एवं उपलब्ध पुस्तक “मितान” को जोगी निवास अनुग्रह सिविल लाइन रायपुर से प्राप्त किया जा सकता है। छत्तीसगढ़ की ‘मितान’ परम्परा के संदर्भ में श्री जोगी ने बताया है कि मितान का रिश्ता सभी रिश्तों से बढ़कर पावन, पवित्र और निस्वार्थ है।जाति, धर्म, सम्प्रदाय, गरीब-अमीर, क्षेत्रीयता इत्यादि से ऊपर उठकर इस रिश्ते को कायम किया जाता है जो छतीसगढ़ की स्थापित परम्परा भी है | श्री जोगी के इस संदेश को जन -जन तक पहुंचाये ताकि प्रदेश में भाई चारा एवं सौहाद्र और अधिक मजबूत हो|
2. मन्दिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च में प्रार्थना, पूजा, इबादत इत्यादि का आयोजन किया जाये।
3. अस्पताल, वृद्धाश्रम, कुष्ठाश्रम, दिव्यागो की सेवा सहायता फल वितरण, भोजन इत्यादि कराया जाये।
4. रक्तदान, दवा एवं फल वितरण इत्यादि के सर्वजन हिताय के कार्यक्रम आयोजित करना उपयुक्त होगा|

Back to top button