अजीत वाडेकर के निधन को सचिन ने बताया निजी क्षति

मुंबई : दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने अजित वाडेकर को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि भारत के पूर्व कप्तान का निधन उनके लिए अपूर्णीय और निजी क्षति है। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और मैनेजर रहे वाडेकर का निधन 15 अगस्त को दक्षिण मुंबई के अस्पताल में हुआ था। वह 77 साल के थे। तेंदुलकर ने दिवंगत आत्मा को अंतिम श्रद्धांजलि देते हुए कहा- यह अपूर्णीय क्षति है। मैं कहूंगा कि यह निजी क्षति है। लोग वाडेकर सर को महान क्रिकेटर के तौर पर जानते हैं, लेकिन मैं भाग्यशाली था कि उन्हें एक महान क्रिकेटर और एक शानदार इंसान के तौर पर करीब से देख सका। मेरे लिए वह काफी महत्वपूर्ण थे। बीते वर्षों में हमारे संबंध और मजबूत हुए थे।

तिरंगे में लिपटे वाडेकर के पाॢथव शरीर को वर्ली स्थित उनके घर पर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। उनका अंतिम संस्कार आज शिवाजी पार्क में किया जाएगा। तेंदुलकर ने इस मौके पर उनके करियर को संवारने में वाडेकर की भूमिका को याद किया। उन्होंने कहा- मेरे जीवन में वाडेकर सर की भूमिका काफी अहम रही है, खासकर उम्र के महत्वपूर्ण पड़ाव पर। मैं 20 साल का युवा था और आसानी से भटक सकता था।

मास्टर ब्लास्टर ने कहा- कई बार मुझे अनुभवी इंसान के मार्गदर्शन की जरूरत होती थी, जो खुद इस स्तर खेला हो। उन्हें पता था खिलाडिय़ों से उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कैसे लेना है। टीम के साथ उनकी मौजूदगी से मुझे निजी तौर पर काफी फायदा हुआ था। भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर और बीसीसीआई के महाप्रबंधन (क्रिकेट संचालन) साबा करीम ने भी वाडेकर को श्रद्धांजलि दी।

करीम ने कहा- मेरी उम्र के सभी खिलाड़ी उनका अनुसरण करते थे। वह बाएं हाथ के शानदार बल्लेबाज थे। पूरी क्रिकेट समुदाय के लिए यह बड़ी क्षति है। भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर समीर दीघे, विनोद कांबली, हाकी के पूर्व कप्तान एमएम सौमेया के अलावा एमसीए के पूर्व और मौजूदा अधिकारियों ने वाडेकर को श्रद्घांजलि दी।

Back to top button