ग्राम फुलवारी एफ में किया जा रहा अखण्ड नवधा रामामयण का आयोजन

ब्यूरो चीफ :- विपुल मिश्रा

फुलवारी: सरस्वती मानस समिति फुलवारी एफ के द्वारा निरंतर बीस वर्ष से ग्राम फुलवारी एफ में अखण्ड नवधा रामामयण का आयोजन किया जा रहा है । जिसमें पद्मश्री से सम्मानित फुलबासन यादव शामिल हुई और उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि श्री रामचंद्र जी मर्यादा पुरुषोत्तम है जिनसे हमें सिख मिलता है कि एक सामान्य इंसान के रूप में नैतिक जिम्मेदारियों और अपनी सीमाओं का सम्मान करते हुए, नियमों का पालन करते हुए भी महानता को प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए हमें कठिनाइयों में भी अपनी नैतिक मर्यादाओं को नहीं खोना चाहिए। तमाम उतार-चढ़ाव में भी अपने पथ पर आगे बढऩा ही श्रेष्ठ है, न कि बुराई के आगे सर्मपण कर देना।।

लोरमी के पुर्व विधायक तोखन साहू ने कहा कि प्रभु श्री राम जी के आदर्श एवं विचार भारतवर्ष की आत्मा में बसते हैं। उनका चरित्र एवं जीवन दर्शन भारतीय संस्कृति की आधारशिला है। जिसे हम अखण्ड नवधा रामायण की कथा के माध्यम से महसूस करते हैं ।

जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि संजू केशरवानी ने कहा कि हर मनुष्य में दया और प्रेम होना चाहिए, हर किसी के मन में अपने से छोटे के प्रति दया और अपने से बड़ों के प्रति सम्मान की भावना होनी चाहिए ।रामचरितमानस एक महान कृति है जिसके प्रत्येक चौपाई और दोहे के पीछे गहन अर्थ छुपे हैं जो मनुष्यों को सत्य , धर्म और नीति की राह पर चलने में मार्ग दर्शन करते हैं.

जिला पंचायत सदस्य शीलू साहू ने कहा कि श्री रामचन्द्र जी वचन के पक्के थे और इसके लिए बड़े से बड़ा त्याग किया। एक युवा मन ने वन-गमन के फैसले को सहर्ष स्वीकार किया। तनिक भी विचलित नहीं हुए, बल्कि उस समय विलाप कर रहे मां, भाई और समाज के लोगों में भी अपने निर्णय पर अटल रहने की प्रेरणा जगा दी। उद्देश्य को लेकर स्पष्ट होना जरूरी है, आपका लक्ष्य क्या है, यह पता होना चाहिए। अनुचित भाषा का प्रयोग प्रभु श्रीराम ने कभी नहीं किया। हर किसी का स्वागत मुस्कुरा कर करते और उसे तुरंत अपना बना लेते। कोई भला-बुरा आकर कह जाए तो उसे गौर से सुनते और बड़ी सरलता से हंसते हुए उसकी गलतफहमी दूर कर देते। कभी यह नहीं याद रखा कि औरों ने उनके साथ क्या और कैसा व्यवहार किया, सबके प्रति प्रेम भाव रखा और कर्म पथ पर अडिग रहे। दृष्टि संकुचित नहीं, बल्कि इसमें अथाह विस्तार था। वह परिवार केंद्रित नहीं रहा, बल्कि समस्त मानव जाति के प्रति प्रेम ही था उनका संदेश। अपनी महानता के बारे में कभी विचार नहीं किया, न इसका एहसास कराने की जरूरत समझी। जमीनी बने रहे।

जिला पंचायत सदस्य दुर्गा उमाशंकर साहू ने कहा कि प्रभु श्री राम के व्यक्तित्व में संतुलन मिलता है। शांत-गंभीर और सौम्य श्रीराम ने कभी अपना संतुलन नहीं खोया। उन्होंने कभी परिस्थिति को अपने ऊपर हावी होने नहीं दिया बल्कि हर परिस्थति में दृढ़ता बनाए रखना ही उनका स्वभाव है। आज के मुश्‍किल समय में हमें यही सीखना है। अनिश्चितता और संशय भरे समय में जब हर कोई टूटा हुआ, भंवर में पड़ा महसूस कर रहा है, प्रभु श्रीराम की कर्तव्य पथ पर डटे रहने की प्रेरणा काम आ सकती है।

जनपद पंचायत लोरमी , महिला एंव बाल विकास विभाग के सभापति कुलेश्वर साहू ने कहा कि भगवान श्री राम जी ने खुद कहा है कि कोई भगवान नही होता है,अगर होता है तो उसके स्वरूप माता-पिता ही है। श्रीराम जी ने अपने पिता दशरथ और माता कैकेयी के द्वारा 14 वर्ष का वनवास दिए जाने पर श्री राम ने उनसे एक भी सवाल न करते हुए उनकी आज्ञा का पालन किया। सोचने और मापने का अर्थ यह है कि क्या हम अपने बच्चों को यह संस्कार दे पा रहे है,क्या हमारी पौध (बच्चे) ऐसा ऐसा कर पा रहे है या कर पाएंगे। सोचने योग्य यह है कि भगवान श्री राम तो भगवान थे उन्हें पता था कि मेरे पिता अपने वचन के चलते मजबूर हैं इसलिए उन्हें उनकी आज्ञा का पालन करना ही होगा। कहते हैं इसलिए उन्होंने वनवास का रास्ता चुन लिया। उनका मानना था कि वह भगवान हो सकते है लेकिन उनके भी भगवान उनके पिता है,उगर कर्तव्यों को नहीं मानोगे तो वो भी भगवान के योग्य नही है।‌ संबोधन के उपरांत राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से सम्मानित समाजसेवी नितेश साहू के नेतृत्व में एक हजार लोगों ने जल कलश यात्रा में शामिल हुए जहां शिव जी एवं नर्मदा मां की पुजा किये और जल संरक्षण का संकल्प लिये ।इस अवसर में मुख्य रूप से जनपद सदस्य शशि साहू, चरनीटोला सरपंच दुर्गेश साहू ,भुतपुर्व सैनिक संतोष साहू, विनय सोनवानी, शिवम मिश्रा, आशा साव ,सबिहा सहित अखण्ड नवधा रामायण समिति के संरक्षक मोहित साहू, अध्यक्ष फुल सिंह साहू, भाई राम कैवर्त ,मनोज जायसवाल,भगवान सिंह कैवर्त,भारत जायसवाल,धनी धुर्व,महेतरू जायसवाल,खीरू साहू ,दुर्गा साहू, सहित सरस्वती मानस समिति के समस्त सदस्यगण उपस्थित रहे।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button