क्राइमछत्तीसगढ़

लोगों को ठग कर “शराबखोरी” ऐशो आराम कर घूमने वाले गिरफ्तार

गूगल में नामी कंपनियों के कस्टमर केयर की फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों के खाते से रकम गायब करने वाले झारखंड से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया।

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा

बिलासपुर : गूगल में नामी कंपनियों के कस्टमर केयर की फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों के खाते से रकम गायब करने वाले झारखंड से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस की संयुक्त टीम ने इस काम को अंजाम दिया। झारखंड पुलिस के सहयोग से धोखाधड़ी के आरोपी चुन्ना पंडित 35 वर्ष ग्राम कुरवा करमाटांड, जफिर अंसारी 34 वर्ष बिराजपुर कारमाटांड, अब्दुल ख़ालिक उर्फ बच्चू 26 वर्ष बिराजपुर कारमाटांड को गिरफ्तार किया। ठगी की रकम को उन्होंने शराबखोरी, घूमने-फिरने में खर्च कर दी थी

तारबाहर थाने में प्रियंका देवांगन ने एफआईआर दर्ज करवाई थी। उसने एक कोरियर सेवा के कस्टमर केयर का नंबर गूगल से सर्च किया और फर्जी साइट में फंस गई और उसके खाते से 9 हजार 904 गायब हो गए। इसी तरह गरिमा भी ऑनलाइन सामान डिलिवर नहीं होने पर गूगल से कस्टमर केयर का नंबर निकाल कर कॉल करते ही 31 हजार ठगी की शिकार हो गई थी

सरकंडा क्षेत्र के रामचंद्र सवाई भी 1 लाख 16 हजार के ठगी के शिकार हुए थे। उन्होंने खाते का स्टेटमेंट जानने के लिए गूगल से एसबीआई का हेल्पलाइन नंबर निकाला था। तीनों मामलों में आरोपियों को पकड़ने एसपी प्रशांत अग्रवाल ने अधिकारियों व थाना प्रभारियों को निर्देश जारी किए थे। नोडल अधिकारी साइबर सेल निमेश बरैया व सीएसपी आरएन यादव, निमिषा पांडेय ने संयुक्त टीम का गठन किया। इसमें साइबर सेल प्रभारी टीआई कलीम खान, तारबाहर टीआई प्रदीप आर्य व सरकंडा टीआई जेपी गुप्ता को लगाया। उनकी टीम झारखंड गई और 72 घंटे रेकी की

झारखंड में जाकर इन्होंने की ठगों की घेराबंदी

झारखंड में आरोपियों की मोर्चाबंदी करने वाले टीम में एसआई प्रभाकर तिवारी, मनोज नायक, मोहन भारद्वाज, धर्मेंद्र वैष्णव, हेड कांस्टेबल एसएल वर्मा, शोभित, कांस्टेबल दीपक उपाध्याय, मुकेश, तरूण केशरवानी, गोविंद शर्मा, आशीष राठौर, दीपक यादव, जोधन साहू शामिल थे

गूगल में दिए नंबर पर बैंक डिटेल शेयर न करें- प्रशांत अग्रवाल

पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल ने लोगों से अपील की है कि गूगल पर किसी भी कंपनी के कस्टमर केयर पर कॉल पर अपने एवं बैंक संबंधित डिटेल व ओटीपी शेयर न करें। कोई भी लिंक, क्यूआर कोड आने पर प्रतिक्रिया न दें मोबाइल पर कोई भी कोई भी अवांछित एप डाउन लोड न करें। हमेशा सतर्क रहें

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button