राष्ट्रीय

राज्य में सभी सरकारी मदरसा और संस्कृत स्कूल रहेंगे बंद, प्रस्ताव को मिली मंजूरी

असम विधानसभा का शीतकालीन सत्र 28 दिसंबर से शुरू

असम: असम विधानसभा का शीतकालीन सत्र 28 दिसंबर से शुरू होने वाला है. मदरसा और संस्कृत स्कूलों से जुड़े मौजूदा कानूनों को वापस ले लिया जाएगा. इस बाबत विधानसभा के आगामी शीतकालीन सत्र में एक विधेयक पेश किया जाएगा.

मालूम हो कि इससे पहले असम सरकार में शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा था कि राज्य सरकार द्वारा मदरसों और संस्कृत स्कूलों को जल्द ही नियमित स्कूलों के रूप में पुनर्गठित किया जाएगा. उनका कहना था कि धार्मिक शिक्षा के लिए सरकारी फंड ख़र्च नहीं किया जा सकता.

ऐसे में राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड, असम को भंग कर दिया जाएगा. शिक्षा मंत्री सरमा ने यह भी कहा था कि असम में 610 सरकारी मदरसे हैं और सरकार इन संस्थानों पर हर साल करीब 260 करोड़ रुपये खर्च करती है.

वहीं, भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा के उपाध्यक्ष अमीनुल हक लस्कर ने कहा था कि मदरसे निजी पार्टियों द्वारा चलाए जाते हैं, इन (निजी) मदरसों को बंद नहीं किया जाएगा. मतलब, सामाजिक संगठनों और अन्य गैर सरकारी संगठनों द्वारा चलाए जा रहे प्राइवेट मदरसे चलते रहेंगे. गौरतलब है कि असम में दो तरह के मदरसे संचालित होते हैं, एक सरकारी मान्यता प्राप्त वाले और दूसरे वो जो निजी संगठन चलाते हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button