खुद का दुख-दर्द भुला कर जरूरतमंदों की मदद में दिन-रात लगे सब इंस्पेक्टर

महेश ने अपना लन्च बॉक्स निकाल कर दोनों बच्चों को खाना खिलाया

तेलंगाना:महबूब नगर 2 टाउन अर्बन पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर के तौर पर तैनात सोम नारायण सिंह ड्यूटी की जिम्मेदारियों के अलावा हर रात सड़कों पर एक और भूमिका निभाते नजर आते हैं. सोम अपने वाहन में खाने के पैकेट साथ लेकर चलते हैं. फिर यही पैकेट वे सड़क किनारे फुटपाथ पर सोने वाले बेसहारा लोगों को बांटते हैं.

सोम ने बताया, “मैंने अपनी पत्नी को कोरोना की वजह से खो दिया. मै उन जरूरतमंदों की मदद करना चाहता हूं जिन्हें इस महामारी की वजह से बहुत कुछ भुगतना पड़ रहा है. मैंने हर दिन ड्यूटी के लिए गश्त लगाते पाया कि मेरे ड्यूटी क्षेत्र में कम से कम 50 ऐसे लोग हैं जो बेघर हैं और सड़क किनारे ही सोते हैं. मुझसे जो बन सकता था, उनके लिए मदद करने का फैसला किया.”

इसी तरह हैदराबाद के ट्रैफिक पुलिस कांस्टेबल महेश ने जो किया, उसकी भी स्थानीय लोग बहुत सराहना कर रहे हैं. हैदराबाद के पंजागुट्टा क्षेत्र में ट्रैफिक ड्यूटी संभालने वाले महेश ने सोमवार को सड़क पर दो गरीब बच्चों को खाने की तलाश में इधर उधर भटकते देखा.

कोरोना महामारी की वजह से आंशिक लॉकडाउन लागू है. खाने के स्टॉल्स को कुछ घंटे के लिए ही खुलने की इजाजत दी जाती है. जब महेश ने बच्चों को देखा उस वक्त लॉकडाउन की वजह से सब स्टॉल्स और दुकानें बंद थीं. महेश ने अपना लन्च बॉक्स निकाल कर दोनों बच्चों को खाना खिलाया.

पुलिसकर्मियों की लॉकडाउन में सख्ती बरतने पर आलोचना बहुत होती है. लेकिन ये कोई नहीं देखता कि इसके पीछे उनका मकसद लोगों को ही कोरोना से सुरक्षित रखना है. बाकी पुलिसवालों का दिल भी दूसरों का दर्द देखकर कैसे पसीजता है इसकी मिसाल हैं- सब इंस्पेक्टर सोम नारायण सिंह और ट्रैफिक कांस्टेबल महेश.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button