मुंगेली जिले के सभी थानों में अवैध शराब, गांजा, जुआं, सट्टा के विरुद्ध शिकंजा कसने की जरूरत….

पुलिस विभाग में आज भी संसाधनों व बल का टोंटा...

– मनीष शर्मा

मुंगेली: जिला निर्माण के बाद अब अपराध नियंत्रण के लिए जो पुलिस व्यवस्था भौगोलिक रूप से विकसित की गयी है. जिले भर में पुलिस की मौजूदगी स्पष्ट देखी जा सकती है मगर अभी भी कई अपराध ऐसे है जिनके लिए पुलिस प्रशासन को और भी आधुनिक तरीके से अपराध नियंत्रण के लिए काम करने की आवश्यकता है जिले के भीतर अलग अलग चौकी, थाने बस बढ़ा देने से पुलिस को वांछित परिणाम आ जाये ये कोई जरूरी नहीं बल्कि वहां तमाम आधुनिक संसाधनों, बल,व पुलिसिया खुफिया तंत्र मजबूत करने की अभी भी जरूरत है।

हालांकि पुराने रिकॉर्ड का अध्ययन किया जाए तो पुलिस अपने व्यवस्था अनुसार उपस्थिति दर्ज कर पाने में सफल है मगर जिले भर में कुकुरमुत्ते की तरह वर्षो से बढ़ रहे सट्टा, जुआं, शराबखोरी, शराबखोरी, गांजा विक्रय जैसे अवैधानिक काम मे पुलिस पूर्णतया सफल है कहना अतिश्योक्ति होगी। साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों का थानों में असमय औचक निरीक्षण भी व्यवस्था में कसावट रखने महती जरूरी है।मगर आज पुलिस की जैसी व्यवस्था है उसमें विभाग थानों के पूरानी उलझनों को निपटाने ,वीआईपी ड्यूटी, जैसे कामो में उलझी रहने से रूटीन के कार्य प्रभावित रहते है।जिले के अनुरूप आज भी मुंगेली को ना ही पर्याप्त संसाधन मुहैया है और ना ही पुलिस बल।

साथ ही जिले के सभी थानों में साफ सफाई हेतु विशेष ध्यान रखने तथा लंबित अपराधो, मर्ग, गुम, शिकायत और लंबित वारंटो की निकाल करने थाना में रिपोर्ट करने आये महिला आगंतुक / रिपोर्टकर्ता से संयमित व्यवहार करने एवं उनकी रिपोर्ट को गंभीरता पुर्वक लेते हुये तत्काल उचित कार्यवाही करने की भी आवश्यकता है इसी प्रकार रात्रि गस्त करने, अवैध शराब, गांजा, जुआ, सट्टा के विरूद्ध कार्यवाही करने एवं पुलिस जनमित्र योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में ग्राम रक्षा समिति गठित कर, साइबर अपराध, चिटफंड, फर्जीकाल ठगी तथा यातायात के नियमो के संबंध में जागरूकता अभियान चलाकर लोगो को जागरूक करने और समस्त स्टाफ को अनुशासन मे रह कर कार्य करने व साफ सुथरी वर्दी धारण करने जैसे वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा समय समय पर दिशा निर्देश, मार्गदर्शन भी मिलना जरूरी है।

मगर वर्तमान जद्दोजहद मैं ऐसा कुछ नही हो रहा है जिससे अनुमान यही लगाया जा सकता है कि पुलिस प्रशासन आज के जरूरी कामो के अलावा पुराने जमे अवैधानिक कारोबारों जो कि आज आधुनिक तरीके से संचालित हो रहे है जिनके लिए ईमानदारी पूर्वक,कांक्रीट निर्णय से नेस्तनाबूद करने की आवश्यकता है।

Back to top button