दूसरी शादी करने के मकसद से धर्म परिवर्तन कर शादी करना अवैध : इलहाबाद हाईकोर्ट

लखनऊ: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा है कि महज दूसरी शादी करने के मकसद से धर्म परिवर्तन कर शादी करना अवैध है. अदालत के फैसले के मुताबिक़ ऐसी शादी का कानून में कोई विधिक महत्व नहीं है.

हाईकोर्ट ने एक मामले में सुनवाई करते अपने फैसले में कहा है कि पहली शादी से तलाक हुए बिना दूसरी शादी करना गलत और अवैध है. कोर्ट ने शादीशुदा महिला की तरफ से धर्म परिवर्तन कर विवाह कर लेने को गलत मानते हुए महिला और उसके कथित पति अशरफ की अर्जी को खारिज कर दिया है और उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाने का आदेश से इंकार भी कर दिया है.

यह आदेश जस्टिस एम.सी.त्रिपाठी की बेंच ने खुशबू बेगम उर्फ खुशबू तिवारी और उसके कथित पति अशरफ की याचिका को खारिज करते हुए दिया है.

Back to top button