लव जेहाद के नाम पर धर्म परिवर्तन का आरोप, हाथरस के एक युवक पर मुकदमा दर्ज

फोन के माध्यम से एक अनजान युवक से बातचीत होने लगी

रायपुर:छत्तीसगढ़ के गांव ठेड गम्हरिया थाना बगीचा की युवती ने लोधा थाना पुलिस को दी तहरीर में बताया कि वह कई वर्षां से अपने परिवार के साथ दिल्ली में रहकर एक अस्पताल में आया की नौकरी कर रही थी। वहां अक्सर सिकंदर पुर में अपनी बहन के घर जाती थी।

इसी बीच फोन के माध्यम से एक अनजान युवक से बातचीत होने लगी। एक दिन दोनों की मुलाकात हुई तो युवक ने अपना नाम अशोक राजपूत निवासी उमरई हाथरस बताया। कुछ दिन बाद दोनों ने एक दूसरे को अपनाते हुए मार्च 2019 में हरियाणा के उल्लाबास में शिव मंदिर में जाकर शादी कर ली। युवती ने एक बच्चे को जन्म दिया।

आरोप हैं कि 22 मार्च 2021 को आरोपी युवक युवती को लोधा के गांव रायट में अपनी बहन के घर ले आया। यहां लाते ही युवती हक्का बक्का रह गई। घर में सब कुछ विशेष समुदाय का नजर आ रहा था।

युवती ने युवक से जब सच्चाई जानना चाही तो उसने सच उगल दिया। उसने अपना असली नाम बताते हुए कहा कि हम सभी दूसरे समुदाय से है। इतना ही नहीं, युवती से कहा कि तुझे भी अब उनके समुदाय में शामिल होकर अपने धर्म में आस्था छोड़नी होगी।

युवती के विरोध करने पर सभी मारपीट करने लगे एवं धर्मपरिवर्तन का दवाब बनाने लगे। आरोप हैं कि युवक दो माह की बेटी को लेकर युवती को छोड़कर हाथरस भाग गया। युवती मारपीट सहन करती रही। किसी तरह युवती चंगुल से छूटकर शुक्रवार को पुलिस थाना पहुंची।

सुबह से शाम तक टरकाती रही थाना पुलिस

युवती आरोपी के घर से भागकर सुबह थाना बन्ना देवी पहुंची। बन्ना देवी पुलिस ने युवती को थाना लोधा जाने की बात कहकर टरका दिया। युवती भागते हुए थाना लोधा पहुंची। वहां देर शाम तक सुनवाई नहीं हुई तो भनक लगने पर पूर्व महापौर शकुंतला भारती पहुंच गई।

उन्होंने थाना प्रभारी से बातचीत करते हुए युवती की ओर से तहरीर दिलवायी और कार्रवाई की मांग की। मामले में शिकायत के आधार पर पुलिस ने विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन कराने व मारपीट का मुकदमा दर्ज किया है। मामले की जांच की जा रही है। अभय शर्मा, थानाध्यक्ष, लोधा थाना

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button