छत्तीसगढ़राजनीतिराष्ट्रीय

बलौदाबाजार और भाटापारा में गठबंधन बिगाड़ेगा समीकरण

प्रदीप शर्मा

बलौदाबाजार विधानसभा क्षेत्र भाटापारा विधानसभा क्षेत्र

बलौदाबाजार में कांग्रेस के

आगे बसपा की चुनौती 

भाटापारा में आसान नहीं है

भाजपा की राह

जनक राम वर्माशिवरतन शर्मा छत्तीसगढ़ की जिन सीटों पर कांग्रेस को जीत मिलती रही है उनमें सामान्य वर्ग की सीट बलौदाबाजार भी शामिल है। इस सीट से ज्यादातर कांग्रेस के विधायक जीतते रहे हैं। वर्तमान में यहां से कांग्रेस के जनक राम वर्मा विधायक चुने गए हैं। भाटापारा सामान्य विधानसभा सीट से कांग्रेस और भाजपा का बराबर का जोर रहा। इस सीट से कांग्रेस और भाजपा के विधायक बारी-बारी से जीत कर विधानसभा में पहुंचते रहे हैं। वर्तमान में यहां से भाजपा के शिवरतन शर्मा विधायक चुने गए हैं।

रायपुर: अविभाजित मध्यप्रदेश में साल 1998 में हुए विधानसभा चुनाव में बलौदाबाजार सामान्य सीट पर कांग्रेस के गणेश शंकर वाजपेयी विधायक चुने गए थे। छत्तीसगढ़ बनने के बाद साल 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने गणेश शंकर वाजपेयी को दोबारा मैदान में उतारा था। जिन्होंने त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा के विपिन बिहारी वर्मा को 309 मतों से हराया।

कांग्रेस के गणेश शंकर वाजपेयी को 23642 मत मिले वहीं भाजपा के विपिन बिहारी वर्मा को 23333 मतों से संतोष करना पड़ा। इस चुनाव में बसपा की कलिंद्री वर्मा कुल मतदान का 11.49 प्रतिशत यानि 9904 मत हासिल कर तीसरे स्थान पर रही।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए लक्ष्मी बघेल को मैदान में उतारा था। इस चुनाव में भाजपा की चाल कामयाब रही और लगातार जीत हासिल कर रहे कांग्रेस के गणेश शंकर वाजपेयी को एंटीइनकम्बेंसी की वजह से हार का सामना करना पड़ा। बसपा 11 प्रतिशत वोट शेयर के साथ तीसरे स्थान पर रही। इस चुनाव में भाजपा की लक्ष्मी बघेल को 56788 मत मिले वहीं कांग्रेस गणेश शंकर वाजपेयी को 51606 मतों से संतोष करना पड़ा। बहुजन समाज पार्टी के महेंद्र कश्यप 16184 मत हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने पूर्व विधायक लक्ष्मी बघेल को दोबारा मैदान में उतारा था वहीं कांग्रेस ने उम्मीदवार बदलते हुए जनक राम वर्मा को अपना प्रत्याशी बनाया था। इस चुनाव में कांग्रेस की चाल कामयाब रही और भाजपा की लक्ष्मी वर्मा को त्रिकोणीय मुकाबले में 9977 मतों से हार का सामना करना पड़ा। बहुजन समाज पार्टी 10.58 मत शेयर कर तीसरे स्थान पर रही। कांग्रेस के जनक राम वर्मा को 76549 मत मिले वहीं भाजपा की लक्ष्मी वर्मा को 66572 मतों से संतोष करना पड़ा। बसपा के अशोक कुमार जैन 18659 मत हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे।

आने वाले चुनाव में कांग्रेस के आगे अपनी जीत बचाने की चुनौती होगी तो भाजपा के आगे जिताऊ उम्मीदवार की तलाश। इस बार बलौदाबाजार सीट पर बसपा-जोगी कांग्रेस गठबंधन भी मैदान में है, जिसकी वजह से त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

भाटापारा में आसान नहीं है भाजपा की राह

अविभाजित मध्यप्रदेश में साल 1998 में हुए विधानसभा चुनाव में भाटापारा सामान्य सीट पर भाजपा के शिवरतन शर्मा विधायक चुने गए थे। छत्तीसगढ़ बनने के बाद साल 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने शिवरतन शर्मा को फिर मैदान में उतारा जिन्हें कांग्रेस के चैतराम साहू के हाथों त्रिकोणीय मुकाबले में 1945 मतों से हार का सामना करना पड़ा। बसपा तीसरे स्थान पर रही। कांग्रेस के चैतराम साहू को 45398 मत मिले वहीं भाजपा के शिवरतन शर्मा को 43453 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने पूर्व विधायक चैतराम साहू को दोबारा मैदान में उतारा था, जिनका सामना भाजपा के पुराने प्रतिद्वंदी शिवरतन शर्मा से था। इस चुनाव में कांग्रेस अपना जीत बचा पाने में सफल रही। कांग्रेस के चैतराम साहू ने त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा के शिवरतन शर्मा को 6232 मतों ेसे हराया। 6.42 प्रतिशत मत शेयर के साथ बसपा तीसरे स्थान पर रही। कांग्रेस के चैतराम साहू को 58242 मत मिले वहीं भाजपा के शिवरतन शर्मा को 52010 मतों से संतोष करना पड़ा। बसपा के अरुण ध्रुव को 8170 मत मिले।

साल 2013 भाजपा ने शिवरतन शर्मा को फिर मैदान में उतारा, जो जीत कर विधानसभा में पहुंचने में कामयाब रहे। इस चुनाव में कांग्रेस ने चैतराम साहू को अपना उम्मीदवार बनाया था जिन्हें इंटी इनकम्बेंसी फैक्टर की वजह से हार का समाना करना पड़ा। वहीं बसपा के कमजोर प्रदर्शन से वोट शेयर में गिरावट आई। बसपा के चंद्रकांत यदु 3694 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे। भाजपा के शिवरतन शर्मा को 76137 मत मिले वहीं कांग्रेस के चैतराम साहू को 63797 मतों से संतोष करना पड़ा।

आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को एंटी इनकम्बेंसी का डर सता रहा है तो कांग्रेस अपनी पुरानी सीट बचाने के लिए पूरा जोर लगा रही है। वहीं बसपा -जोगी कांग्रेस गठबंधन भी इस बार चुनाव में पूरी तैयारी के साथ उतरने को तैयार है। बहरहाल त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
बलौदाबाजार और भाटापारा में गठबंधन बिगाड़ेगा समीकरण
Author Rating
51star1star1star1star1star

Tags