84 मामले पर अमरिंदर सिंह ने कहा- दंगों में 4 कांग्रेसियों के नाम मैंने भी सुने

कहा-मुझे इसकी पृष्ठभूमि बताने दीजिए

चंडीगढ़ :पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रदेश विधानसभा में कहा कि उन्होंने खुद सुना है कि सिख विरोधी दंगों में चार कांग्रेसी नेताओं, एचकेएल भगत, सज्जन कुमार, अर्जुन दास और धर्मदास शास्त्री, का नाम आया।

सदन में हंगामे के बीच अमरिंदर ने इस बारे में अपने अनुभव का ब्योरा देते हुए कहा कि दंगों के दौरान ‘मैं गुरुद्वारा रकाबगंज में पीड़ितों से मिला। कई लोग डरे-सहमे थे और कुछ बोल तक नहीं पा रहे थे। मैंने तब कुछ लोगों से बात की और उन्होंने चार-पांच लोगों का नाम लिया जिनमें एचकेएल भगत, सज्जन कुमार, अर्जुन दास और धर्मदास शास्त्री शामिल थे।’

अमरिंदर का बयान ऐसे समय आया है जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में इन दंगों में कांग्रेस के शामिल होने से इनकार किया। राहुल ने लंदन में एक कार्यक्रम में कहा था, ‘मेरे मन में उसके बारे में कोई भ्रम नहीं है।

यह एक त्रासदी थी, यह एक दुखद अनुभव था। आप कहते हैं कि उसमें कांग्रेस पार्टी शामिल थी, मैं इससे सहमति नहीं रखता। निश्चित तौर पर हिंसा हुई थी, निश्चित तौर पर वह त्रासदी थी। मुझे लगता है कि किसी के भी खिलाफ कोई भी हिंसा गलत है।

भारत में कानूनी प्रक्रिया चल रही है लेकिन जहां तक मैं मानता हूं उस समय कुछ भी गलत किया गया तो उसे सजा मिलनी चाहिए और मैं इसका 100 फीसद समर्थन करता हूं।’

बाद में लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स में एक सत्र के दौरान जब राहुल से सिख विरोधी दंगों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा था, ‘जब मनमोहन सिंह ने कहा तो वह हम सभी के लिए बोले।

जैसा मैंने पहले कहा था कि मैं हिंसा का पीड़ित हूं और मैं समझता हूं कि यह कैसा लगता है।’ सोमवार को पंजाब विधानसभा में हंगामा तब हुआ जब शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल, शिअद विधायकों और बिक्रमजीत सिंह मजीठिया ने राहुल गांधी के उक्त बयान पर कांग्रेस को खरी-खरी सुनाई।

इस पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बीच-बचाव कर अकाली नेताओं को शांत रखने का प्रयास करते हुए कहा कि उन्होंने भी दंगों में कुछ कांग्रेसियों का नाम सुना है। अमरिंदर ने साथ ही कहा कि बतौर पार्टी, कांग्रेस, सिख विरोधी दंगों में शामिल नहीं थी.

Back to top button