‘ईरान के हर रंगरूट को निकालने’ साथ काम करेगा अमेरिका :पोम्पियो

ओबामा का नाम लिए बिना उनकी मध्य पूर्व नीति की आलोचना की

वाशिंगटन: सीरिया में बशर अल-असद सरकार को हटाने की आतंकवादी संगठनों जुंद अल-अकसा और जभात अल-नुसरा की कोशिश में अमेरिका सहयोगियों के साथ काम करेगा. अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि सीरिया से ईरान के हर संकट के लिए उनका देश अपने सहयोगियों के साथ काम करेगा.

पोम्पियो ने ये भी कहा है कि जब तक ईरान और उसकी ओर से संघर्ष में जुटे लड़ाके बाहर नहीं जाते तब तक अमरीका सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद के नियंत्रण वाले इलाक़े में पुनर्निर्माण के लिए कोई मदद नहीं देगा.

अमरीकी विदेश मंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का नाम लिए बिना उनकी मध्य पूर्व नीति की आलोचना की और कहा कि उनका ‘आकलन पूरी तरह ग़लत’ था.

ईरान ने पोम्पियो के बयान पर पलटवार किया है. अमरीकी विदेशी मंत्री पोम्पियो फिलहाल मिस्र के दौरे पर हैं और ये बातें उन्होंने काहिरा में कहीं. अभी से करीब तीन हफ़्ते पहले अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सीरिया से अमरीकी सैनिकों को हटाने के फ़ैसले का एलान किया था.

उन्होंने कहा, “अमरीका आतंक के ख़िलाफ संघर्ष पूरा होने तक वापस नहीं जाएगा. हमारी और आपकी सुरक्षा के लिए ख़तरा बने आईसिस (इस्लामिक स्टेट समूह), अल क़ायदा और दूसरे जिहादियों को हराने के लिए हम आपके साथ मिलकर परिश्रम करेंगे.”

उन्होंने कहा कि मध्य पूर्व में ‘अमरीका की ताक़त अच्छी व्यवस्था कायम करने के लिए है. अमरीका जहां से निकलता है, अफ़रा तफरी की स्थिति बन जाती है.’

सीरिया में जारी संघर्ष में ईरान सीरिया की सरकार का समर्थन कर रहा है. रूस भी सीरिया का सहयोगी है. ईरान सीरिया की सरकार को हथियार, सैन्य सलाहकारों के अलावा कथित तौर पर सैनिक भी मुहैया कराता है.

1
Back to top button