अंतर्राष्ट्रीय

रूसी दखल मामले में कोर्ट में नए दस्तावेज जमा, ट्रंप की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

वाशिंगटन : अमेरिका में साल 2016 में हुए राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल मामले की जांच कर रहे विशेष वकील रॉबर्ट मुलर ने शुक्रवार को कोर्ट में नए दस्तावेज जमा किए। इससे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। मुलर ने कहा कि ट्रंप के पूर्व चुनाव प्रभारी पॉल मैनफोर्ट ने संघीय जांचकर्ताओं से भुगतान और ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों से संपर्क के बारे में झूठ बोला था। मुलर यह भी जांच कर रहे हैं कि ट्रंप के चुनाव अभियान और रूस के बीच कोई साठगांठ थी या नहीं।

ट्रंप के पूर्व चुनाव प्रभारी मैनफोर्ट ने जांच में झूठ बोला

मैनफोर्ट 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप की प्रचार टीम के प्रभारी थे। यूक्रेन के लिए लॉबिंग करने के आरोपों के चलते उन्हें चुनाव से तीन माह पहले इस्तीफा देना पड़ा था। वह सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी के सियासी सलाहकार भी रह चुके हैं। मुलर के कार्यालय ने वाशिंगटन की जिला अदालत में नए दस्तावेज जमा किए। इस अदालत ने पिछले महीने मुलर के उन आरोपों पर दस्तावेज जमा करने को कहा था कि मैनफोर्ट ने झूठे बयान दिए थे। इन दस्तावेजों के अनुसार, मैनफोर्ट ने रूसी-यूक्रेनियन सियासी सलाहकार कांस्टेंटिन किलिमनिक के साथ हुई बातचीत के बारे में झूठ बोला था।

रूस से साठगांठ का नहीं मिला कोई सुबूत: ट्रंप

ट्रंप ने शनिवार को कहा कि लंबी और खर्चीली जांच के बावजूद अभियोजकों को रूस से साठगांठ का कोई सुबूत नहीं मिला। रूस पहले ही इससे इन्कार कर चुका है कि उसने ट्रंप की मदद के लिए राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप किया था। ट्रंप भी इन आरोपों को खारिज कर चुके हैं।

 अभियोजकों ने मांगी ट्रंप के पूर्व वकील के लिए जेल की सजा

ट्रंप के पूर्व वकील माइकल कोहेन को एक पोर्न स्टार को भारी भरकम भुगतान करने और जांचकर्ताओं से झूठ बोलने के मामले में जेल की सजा हो सकती है। उन्होंने ट्रंप के कहने पर यह भुगतान किया था। अभियोजकों ने मैनहट्टन की जिला अदालत के जज विलियम पाउले से इन मामलों में कोहेन के लिए सजा मांगी है। कोहेन की सजा पर जज 12 दिसंबर को अपना फैसला सुनाएंगे।

 पूर्व एफबीआइ निदेशक कोमी से पूछताछ

अमेरिका की एक संसदीय समिति ने राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल मामले में एफबीआइ के पूर्व निदेशक जेम्स कोमी से शुक्रवार को दोबारा पूछताछ की। कई घंटों की पूछताछ के बाद संसद परिसर से बाहर निकलते समय कोमी ने मीडिया से सिर्फ यह कहा कि वह बाद में कुछ बता सकते हैं। ट्रंप ने पिछले साल एफबीआई के निदेशक पद से उनको हटा दिया था। रूसी दखल मामले की संसदीय समिति भी जांच कर रही है।