भारत के आत्मरक्षा के अधिकार का समर्थन करता है अमेरिका: जॉन बोल्टन

पाकिस्तान को जैशके लिए पनाहगाह न बनाने चेतावनी दी

नई दिल्लीः जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमलें में सीआरपीएफ के 37 से भी ज्यादा जवान हो शहीद हो गए. आतंकियों ने सीआरपीएफ के काफिले में अचानक ब्लास्ट कर दिया था. जिससे बाद भारत ने प्पकिस्तान की कड़ी आलोचना की.

इसी कड़ी में पुलवामा आतंकवादी हमले को देखते हुए अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने अपने भारतीय समकक्ष अजीत डोभाल से कहा कि उनका देश भारत के आत्म रक्षा के अधिकार का समर्थन करता है. साथ ही पाकिस्तान को जैश-ए-मोहम्मद और अन्य आतंकी समूहों के लिए पनाहगाह न बनाने चेतावनी दी .

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने बताया कि डोभाल और बोल्टन ने शुक्रवार शाम फोन पर बातचीत की जिसमें उन्होंने संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के तहत पाकिस्तान को उसके कर्तव्यों के लिए जिम्मेदार ठहराने और जैश-ए-मोहम्मद के नेता मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी की सूची में शामिल करने की सभी बाधाओं को हटाने का संकल्प लिया.

उसने कहा कि बोल्टन ने सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ भारत के आत्म रक्षा के अधिकार का समर्थन किया और इस हमले के दोषियों को सजा देने के लिए भारत को हरसंभव सहायता देने की पेशकश दी. अमेरिका ने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन द्वारा पुलवामा में किए गए हमले पर संवेदनाएं और आक्रोश जताने के लिए फोन किया था.

Back to top button