वैक्सीनेशन अभियान के बीच कोरोना वैक्सीन पर केंद्र सरकार ने लिया यू-टर्न

अगस्त से दिसंबर के बीच 135 करोड़ डोज ही मिलने की संभावना : केंद्र

नई दिल्ली: देश में डेल्टा+ वैरिएंट के खतरे के बीच कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता पर केंद्र सरकार ने यू-टर्न ले लिया है. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में बताया है कि इस साल दिसंबर तक उसे वैक्सीन के सिर्फ 135 करोड़ डोज ही मिलेंगे.

इससे पहले मई में जब देशभर में वैक्सीन की किल्लत सामने आई थी, तब केंद्र सरकार ने दावा किया था कि 31 दिसंबर तक देश के पास 216 करोड़ से ज्यादा डोज होंगी. यानी, महीनेभर में ही केंद्र ने इस साल तक मिलने वाले वैक्सीन डोज में 81 करोड़ की कमी कर दी है.

दे

मई में कुछ और ही कहा था

13 मई को केंद्र सरकार ने बताया था कि उसे अगस्त से दिसंबर के बीच 8 वैक्सीन की 216 करोड़ से ज्यादा डोज मिलने की उम्मीद है, जिससे देश की पूरी आबादी को इस साल के आखिरी तक वैक्सीनेट किया जा सकेगा. लेकिन अब सरकार ने कहा है कि अगस्त से दिसंबर के बीच 135 करोड़ डोज ही मिलने की संभावना है.

मई में किए गए सरकार के इस ऐलान को आप यहां पढ़ सकते हैं. इतना ही नहीं, केंद्र ने पहले कहा था कि देश में 8 वैक्सीन उपलब्ध होंगी, लेकिन अब सरकार ने 5 वैक्सीन की ही बात कही है.

13 मई को सरकार ने इन वैक्सीन के बारे में देश को बताया था

वैक्सीन डोज
कोविशील्ड 75 करोड़
कोवैक्सीन 55 करोड़
बायोलॉजिकल ई 30 करोड़
जायडस कैडिला 5 करोड़
नोवावैक्स 20 करोड़
भारत बायोटेक नेजल वैक्सीन 10 करोड़
जिनोवा बायोफार्मा 6 करोड़
स्पुतनिक V 15.6 करोड़
कुल 216.6 करोड़

अब केंद्र सरकार पलट गई

लेकिन, अब शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में केंद्र ने बताया है कि अगस्त से दिसंबर 2021 के बीच कोरोना वैक्सीन की 135 करोड़ डोज ही देश को मिल पाएगी. हालांकि, केंद्र ने ये भी कहा है कि वो 31 दिसंबर 2021 तक टोटल वैक्सीनेशन करने की कोशिश कर रही है. सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में केंद्र ने दिसंबर तक 5 वैक्सीन आने का ही अनुमान लगाया है, जबकि मई में 8 वैक्सीन की उम्मीद जताई थी.

26 जून को सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को जो बताया

वैक्सीन डोज
कोविशील्ड 50 करोड़
कोवैक्सीन 40 करोड़
बायोलॉजिकल ई 30 करोड़
जायडस कैडिला 5 करोड़
स्पुतनिक V 10 करोड़

कुल 135 करोड़

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया, “देश में 18 साल से ऊपर की आबादी तकरीबन 93 से 94 करोड़ है. ऐसे में इस आबादी को वैक्सीन के दोनों डोज लगाने के लिए 186 से 188 करोड़ डोज की जरूरत होगी. इनमें से 51.6 करोड़ डोज 31 जुलाई 2021 तक राज्यों को दे दिए जाएंगे. जिसके बाद पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए 135 करोड़ डोज की ही जरूरत होगी.”

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button