राष्ट्रीय

अमित शाह ने किया चुनिंदा तरीके से असहिष्णुता की बात करने का विरोध

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ,सोमवार को कहा कि चुनावों के दौरान असहिष्णुता के मुद्दे पर गर्मागर्म बहस होती है लेकिन जब केरल और पश्चिम बंगाल में भाजपा के कार्यकर्ता मारे गये तो किसी ने इस मुद्दे को नहीं उठाया.उन्होंने यहां भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा कि चुनिंदा तरीके से असहिष्णुता की बात करना लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है.

शाह के बयान केरल और पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा तथा बेंगलूरू और त्रिपुरा में पत्रकारों की हत्या की पृष्ठभूमि में आये हैं. उनके हवाले से भाजपा के एक बयान में कहा गया कि असहिष्णुता की कुछ बातों को दबा दिया गया वहीं कुछ पर बड़े जोरदार तरीके से चर्चा की गयी.

शाह ने कहा, ‘‘जब कश्मीरी पंडितों को निकाला जाता है तो असहिष्णुता की बात नहीं होती. लेकिन जब चुनाव आने लगते हैं तो असहनशीलता के मुद्दे पर गर्म बहस होती है.’’

Related Articles

Leave a Reply