छत्तीसगढ़

नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण पर अमित का सियासी वार

रायपुर। मरवाही विधायक और जोगी कांग्रेस के नेता अमित जोगी ने नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण को जनविरोधी बताते हुए उसके निजीकरण के लिए उच्च स्तर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। उन्होंने आदिवासी क्षेत्र के सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग को सुनियोजित तरीके से निजीकरण की ओर ढकेलने का राज्य और केन्द्र सरकार पर आरोप लगाया है। इस सिलसिले में जोगी ने बिंदुवार खुलासा किया है।
शुक्रवार को ये खुलासा जोगी ने राजधानी में वार्ता लेकर किया। उन्होंने कहा कि 27 अक्टूबर 2016 के दिन, ठीक एक वर्ष पहले, केंद्र सरकार की विनिवेश मामलों में कैबिनेट कमिटी की बैठक में 16 कंपनियों सहित बस्तर के नगरनार इस्पात संयंत्र को निजी हाथों में बेचने यानि विनिवेश करने का निर्णय लिया गया था।
00 कांग्रेस पार्टी को भी लिया लपेटे में :
बस्तर और बस्तरवासियों की भावनाओं के विरुद्ध जाकर मोदी सरकार ने नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण का यह छत्तीसगढ़ विरोधी कदम उठाया था । भाजपा सरकार के इस अनुचित और अन्यायपूर्ण कदम में कांग्रेस पार्टी भी बराबर की भागीदार रही क्योंकि नगरनार को निजी हाथों में बेचने का प्रस्ताव सर्वप्रथम कांग्रेस पार्टी ने ही वर्ष 2013 में रखा था।
0 नगरनार इस्पात संयंत्र का विनिवेशीकरण एक अत्यंत गंभीर मुद्दा है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने इस वर्ष 8 फरवरी को एक पत्र प्रधानमंत्री को लिखा जिसमे उन्होंने नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण के कदम को टालने की बात कहते हुए तीन बातें प्रमुखता से लिखी थी ।
इसमें ये कहा था कि निजीकरण से नक्सलवाद को बढ़ावा मिलेगा। नक्सलियों से निपटने में हम तीन साल पीछे हो जायेंगे । बस्तरवासियों विशेषकर युवाओं में असंतोष और बढेगा । विकास एवं रोजगार को लेकर निजी कंपनियां सरकारी कंपनी जैसी प्रतिबद्घता नहीं दिखाएंगी।
00 निजीकरण को बढ़ावा देने का लगाया आरोप :
उन्होंने कहा कि नगरनार इस्पात संयंत्र के विनिवेशीकरण से सम्बंधित हमारे हाथ एक गुप्त दस्तावेज लगा है जिसमें नीति आयोग कि और से विनिवेश के लिए प्रस्तावित सोलह कंपनियों के विनिवेशीकरण की प्रक्रिया का स्टेटस है। मोदी सरकार ने नगरनार इस्पात संयंत्र को निजी हाथों में बेचने की पूरी तैयारी गुपचुप लेकिन जोरशोर से चालू है। दिल्ली, कोलकाता मुंबई और नोएडा से ट्रांज़ैक्शन एडवाइजर, एसेट वैलुएर और लीगल एडवाइजर नियुक्त किया जा चुके हैं । 20 हज़ार करोड़ की कीमत तय की जा चुकी है। बस ! कुछ दिनों में ही एक्सप्रेशन ऑफ़ इंटरेस्ट का ग्लोबल विज्ञापन निकालने की तैयारी है।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *