अमृतसर रेल हादसा: जांच में ड्राइवर और गार्ड को क्‍लीनचिट

-रावण दहन देखने वालों को बताया जिम्‍मेदार

अमृतसर

रेलवे सुरक्षा के मुख्य आयुक्त (सीसीआरएस) ने जांच में निष्कर्ष निकाला है कि रेल दुर्घटना का कारण धोबी घाट पर रेल पटरियों के पास खड़े होकर दशहरा मेला देखने वाले लोगों की लापरवाही है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने जानकारी 19 अक्टूबर की अमृतसर ट्रेन घटना के सूत्रों के हवाले से दी है।

मतलब अमृतसर रेल हादसे में ट्रेन के ड्राइवर, गार्ड समेत अन्य रेल कर्मियों को क्लीन चिट दे दी गई है और रावण देखने आए लोगों को इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया है। सूत्रों के मुताबिक सीसीआरएस ने यह भी सिफारिश की, कि रेल प्रशासन को जिला प्रशासन / आयोजकों द्वारा मेला / रैली जैसी बड़ी घटनाओं को आयोजित करने से पहले सूचना दी जानी चाहिए ताकि रेलवे इसके लिए आवश्यक सावधानी बरत सके।

19 तारीख की रात को जब रावण दहन हुआ तो रावण दहन के दौरान पटाखे की गूंज की वजह से लोग ट्रेन के हॉर्न की आवाज नहीं सुन सके। रावण के जलने के दौरान आग की लपटें तेज होने की वजह से लोग दशहरा स्थल से रेल पटरी पर जाकर नजारा देखने लगे। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि आग की लपटें तेज होने के बाद लोग रेल पटरी की ओर इस भय से खिसकने लगे कि पुतला उनके ऊपर न आ गिड़े। उसी दौरान ट्रेन आ गई। इससे पहले कि लोग कुछ समझते, ट्रेन बुरी तरह लोगों को कुचलते हुए निकल गई।

1
Back to top button