भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति ने डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी के आवेदन की समीक्षा की

समिति ने कंपनी से प्रतिरक्षा और सुरक्षा के संबंधी आंकड़े मुहैया कराने को कहा

नई दिल्ली:भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति ने डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी के आवेदन की समीक्षा की। समिति ने कंपनी से प्रतिरक्षा और सुरक्षा के संबंधी आंकड़े मुहैया कराने को कहा है।

डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी ने 19 फरवरी को बताया था कि उसने रूस के टीके ‘स्पूतनिक वी’ के आपात स्थिति में इस्तेमाल के लिए औषधि नियामक डीसीजीआई (भारत के औषधि महानियंत्रक) का रुख किया है।

एक सूत्र ने बताया, ”सीडीएससीओ (केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन) की कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने टीके के आपात स्थिति में इस्तेमाल के लिए डॉ रेड्डी लेबोरेटरी के आवेदन पर विचार-विमर्श किया।

कंपनी को सीडीएससीओ द्वारा मंजूर प्रोटोकॉल के तहत प्रतिरक्षा और सुरक्षा संबंधी आंकड़े मुहैया कराने को कहा गया है। एक बार यह आंकड़ा मिल जाने पर आवेदन पर विचार किया जाएगा।”

सूत्र ने बताया कि दवा कंपनी ने बुधवार को दूसरे चरण में सुरक्षा से संबंधित अध्ययन और तीसरे चरण के परीक्षण का अंतरिम आंकड़ा प्रस्तुत किया। बहरहाल, एसईसी ने हैदराबाद की भारत बायोटेक को पांच साल से 18 साल तक के बच्चों पर तीसरे चरण के प्रायोगिक परीक्षण की अनुमति से पहले वयस्कों पर ‘कोवैक्सीन’ के असर के संबंध में आंकड़े मुहैया कराने को कहा है।

पिछले साल हैदराबाद की कंपनी डॉ रेड्डी लेबोरेटरी ने ‘स्पूतनिक वी’ के प्रायोगिक परीक्षण और भारत में इसके वितरण अधिकार के लिए रसियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) के साथ समझौता किया था।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button