राष्ट्रीय

संपूर्ण लक्षित आबादी को कवर करने के लिए एक त्वरित कोविड-19 टीकाकरण अभियान की आवश्यकता: मंत्री हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने वीडियो-कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक को संबोधित किया

नई दिल्ली:कोविड-19 संबंधी उच्च स्तरीय मंत्री समूह (जीओएम) की 22 वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने वीडियो-कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक को संबोधित किया।

इस दौरान नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. विनोद के पॉल ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन के लिए 12 देशों ने भारत से मदद मांगी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने जोर दिया कि संपूर्ण लक्षित आबादी को कवर करने के लिए एक त्वरित कोविड-19 टीकाकरण अभियान की आवश्यकता है।

जीओएम की यह बैठक ऐसे दिन हुई जब देश में कोरोना वायरस से संक्रमण की कुल संख्या एक करोड़ से अधिक हो गई है। उन्होंने कहा कि भारत में कोविड-19 महामारी की वृद्धि दर दो प्रतिशत तक गिर गई है और मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम 1.45 प्रतिशत है।

हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में मरीजों के स्वस्थ होने की दर 95.46 प्रतिशत हो गई है जबकि दस लाख नमूनों के परीक्षण की रणनीति से संचयी सकारात्मकता दर घटकर 6.25 प्रतिशत हो गई है।

उचित कोविड व्यवहार बनाए रखें केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार उन्होंने कहा कि अक्तूबर और नवंबर में त्योहारों के बावजूद व्यापक परीक्षण, निगरानी और उपचार की नीति के कारण मामलों में कोई नया उछाल नहीं दिखा।

उन्होंने लोगों से अपील की कि वे उचित कोविड व्यवहार बनाए रखें। विदेश मंत्री एस जयशंकर, नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय भी बैठक में शामिल हुए।

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. विनोद के पॉल, प्रधानमंत्री के सलाहकार अमरजीत सिन्हा और भास्कर खुल्बे भी इस बैठक में डिजिटल तरीके से शामिल हुए। एनसीडीसी के निदेशक डॉ. सुजीत के सिंह ने एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की कि किस प्रकार डेटा आधारित सरकारी नीतियों से भारत को महामारी पर महत्वपूर्ण नियंत्रण हासिल करने में मदद मिली।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button