दूसरी बार लगा एंडरसन पर बॉल टेंपरिंग का आरोप

दूसरी बार लगा एंडरसन पर बॉल टेंपरिंग का आरोप

जालन्धर : एशेज के तहत खेला जा रहा चौथा टैस्ट एक बार फिर से विवाद में आया है। इस बार विवाद का कारण बने हैं इंगलैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन। कुछ टीवी फुटेज में एंडरसन बॉल के साथ छेड़छाड़ करते दिख रहे हैं। इसको लेकर महान स्पिनर शेन वॉर्न, मिशेल जॉनसन और माइक हसी ने कड़ा ऐतराज जाहिर किया है। पहले ही इंगलैंड 3-0 से एशेज गंवा चुका है। ऐसे एंडरसन की इस गलती से यह चर्चा छिड़ गई है कि इंगलैंड मैच बचाने के लिए हर तरह की हरकत करने से गुरेज नहीं कर रहा। क्रिकेट में बॉल टेंपरिंग बढ़ी समस्या रही है। कई प्लेयर्स ने इसके लिए सस्पेंशन झेले तो कइयों ने मैच फीस कटाई। ऐसे में हम आपके सामने लेकर आ रहे हैं बॉल टेंपरिंग के कुछ मामले जो खेल को प्रभावित करने के लिए लंबे समय से जाने जा रहे हैं…

वकार युनिस पहले गेंदबाज जिन्हें झेलना पड़ा सस्पेंशन
टेलीविजन कवरेज के बाद बॉल टेंपरिंग के मामले बहुत बढ़ गए हैं। पाकिस्तान के तेज गेंदबाज वकार युनिस ऐसे पहले खिलाड़ी हैं जिन्हें 2010 में खेले गए एक मैच के बाद सस्पेंशन झेलना पड़ा था।

माइकल अर्थटन : 1994 में माइकल अर्थटन पर लॉड्र्स क्रिकेट स्टेडियम में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले जाने वाले मैच में बॉल टेंपरिंग का आरोप लगा था। अर्थटन को बॉल पर मिट्टी रगड़ते देखा गया था। जबकि अर्थटन का कहना था कि उन्होंने मिट्टी अपना हाथ साफ रखने के लिए जेब में रखी थी। अर्थटन पर दो हजार पाउंड का जुर्माना लगा था।

सचिन तेंदुलकर : 2001 में सचिन तेंदुलकर पर पोर्ट एलिजाबेथ के सेंट जॉर्ज पार्क स्टेडियम में खेले गए मैच में टेंपरिंग का आरोप लगा था। इसके लिए मैच रेफरी माइक ने सचिन को एक मैच के लिए सस्पेंड कर दिया था। टीवी रिप्ले में देखा गया कि सचिन अपनी नाखूनों से गेंद में फंसी मिट्टी निकाल रहे थे। नियम मुताबिक सचिन ऐसा अंपायर को ध्यान में लेकर कर सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। लेकिन मैच के बाद हुई जांच में आईसीसी ने बॉल टेंपरिंग के चार्जेस से सचिन को राहत दे दी थी।

पाकिस्तान टीम : 2006 में अंपायर डेरेल हेयर और बिल्ली डॉक्टरोव ने पाया कि बॉल के साथ छेड़छाड़ हुई है। इसके लिए उन्होंने पाकिस्तान पर पेनल्टी लगाते हुए इंगलैंड को पांच अतिरिक्त रन दे दिए। इस पर पाकिस्तान टीम ने विरोध कर दिया। चाय काल के बाद उन्होंने खेलने से इंकार कर दिया। अंपायर ने आखिरकार इंगलैंड को विजेता करार दे दिया। इस मैच में खूब विववाद हुआ। बॉल टेंपरिंग न होने पर मैच ड्रा कर दिया गया फिर आईसीसी के पास बीते मैच का रिजल्ट बदलने का कोई अधिकार न होने के कारण इंगलैंड को 2009 में फिर से विजेता करार दे दिया गया।

स्टूअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन : 2010 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले गए तीसरे टैस्ट मैच के दौरान इंगलैंड के बॉलर स्टूअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन पर आरोप लगा था कि उन्होंने अपने जूते के स्पाइक से बॉल को नुकसान पहुंचाया है। एंड्रयू फ्लावर ने कहा- उस दिन टेंपरेचर 40 डिग्री के आसपास था ऐसे में बॉल सुखाने के लिए ऐसा किया गया। मैच में चाहे किसी को सस्पेंशन नहीं झेलना पड़ा लेकिन इस कारण खूब विवाद हुआ।

शाहिद अफरीदी : 2010 में टी-20 मैच के दौरान पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए मैच के दौरान यह आरोप लगे थे। कैमरे में वह बॉल को काटते देखे गए थे। इसके फौरन बाद बॉल को बदला गया। बाद में एक इंटरव्यू में अफरीदी ने कहा कि वह तो सिर्फ गेंद की खुशबू ले रहे थे। लेकिन उनपर बॉल टेंपरिंग का आरोप लग गया।

क्रिस ब्रॉड और पीटर सिडल : 2012 में ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाज क्रिस ब्रॉड और पीटर सिडल पर श्रीलंका के खिलाफ खेले गए पहले टैस्ट मैच दौरन बॉल टेंपरिंग का आरोप लगा था। पीटर सिडल पर गंभीर आरोप लगे थे लेकिन बाद में आईसीसी ने उन्हें क्लीनचिट दे दी।

फॉफ डू प्लेसिस : 2013 में दुबई में हो रहे मैच के दौरान साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी फॉफ डू प्लेसिस पर बॉल को अपने पजामे की जिप से रगडऩे का आरोप लगा था। अंपायरों ने यह देख पाकिस्तान को 5 अतिरिक्त रन दे दिए। प्लेसिस पर मैच की 50 फीसदी राशि का जुर्माना भी लगाया गया। इसका एबी डिविलयर्स के अलावा कप्तान ग्रीम स्मिथ ने भी खूब विरोध किया था। इस मैच में साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज वेरोन फिलेंडर भी बॉल के साथ छेड़छाड़ करते देखे गए थे लेकिन उनपर जूर्म साबित नहीं हो पाया।

वेरोन फिलेंडर : 2014 में साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज वेरोन फिलेंडर पर बॉल टेंपरिंग का आरोप लगा। श्रीलंका के गाले क्रिकेट मैदान में खेले जा रहे टैस्ट के तीसरे दिन यह घटना हुई थी। फिलेंडर को क्रिकेट लॉ 42.1 के तहत मैच का 75 प्रतिशत गंवाना पड़ा। हालांकि यह मैच साउथ अफ्रीका ने 153 रन से जीत लिया था।

फॉफ डू प्लेसिस : 2016 में दक्षिण अफ्रीका के फॉफ डू प्लेसिस पर ही बॉल पर टॉफी का सलाइवा लगाने का आरोप लगा। वीडियो फुटेज में साफ था कि प्लेसिस अपने मुंह से सलाइवा निकाल बॉल पर रगड़ रहे हैं। इसके लिए प्लेसिस को अपनी मैच फीस गंवानी पड़ी थी।

क्रिकेट के नियम 42 के सब-सेक्शन 3 के अनुसार अगर बॉल के तहत किसी भी तरह की छेड़छाड़ की जाती है तो यह दंडनीय अपराध है। अगर आपने बॉल से मिट्टी भी हटानी है तो अंपायर को ध्यान में लाकर हटानी होगी। अंपायर पर पूरे मैच के दौरान बॉल की देखरेख की जिम्मेदारी होती है। अगर अंपायर मैदान पर किसी फील्डर को ऐसे पकड़ लें तो बैटिंग करने वाली टीम को पांच अंक अतिरिक्त दे दिए जाते हैं। कभी-कभी जुर्माने के साथ मैच निलंबन की सजा भी सुनाई जा सकती है।

इंगलैंड के कोच ट्रेवर ने आरोप नकारे
इंग्लैंड क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच ट्रेवर बेलिस ने बॉल टेंपिरिंग के खबरों को खारिज कर दिया। आस्ट्रेलियाई टीवी चैनल नाइन ने आरोप लगाया कि इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन अंगूठे से गेंद पर कुछ कर रहे थे और ऐसा लग रहा था कि वह गेंद से छेड़छाड़ कर रहे हो। चैनल नाइन के कमेंटेटर और पूर्व स्पिनर शेन वार्न ने कहा कि मैं निश्चित नहीं हूं कि आपको वहां अपनी अंगुलियों के नाखून का इस्तेमाल करने की इजाजत है। वार्न के साथी कमेंटेटर माइकल स्लेटर ने कहा कि यह दिलचस्प है, आप गेंद पर अपने नाखून का इस्तेमाल नहीं कर सकते। यह बिलकुल नहीं हो सकता। एंडरसन, कप्तान जो रुट और साथी तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्राड अंपायर एस रवि और कुमार धर्मसेना के साथ चर्चा कर रहे थे। लेकिन बेलिस ने कहा कि अंपायर ने बाद में कहा कि तिल का ताड़ बनाया गया है।बेलिस ने कहा कि मैंने भी फुटेज देखी है और अगर एंडरसन इसे तब खुरचने का प्रयास कर रहे थे तो वह गलत चमकदार हिस्से को खुरच रहे थे ताकि यह गेंद रिवर्स हो सके। मुझे पूरा भरोसा है कि यह ऐसा मामला नहीं था। मैच रैफरी रंजन मदुगले ने दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा कि आरोपों पर कोई रिपोर्ट नहीं होगी।

advt
Back to top button