वाजपेयी युग के इस नेता को चुनाव रेस से बाहर करने पर लोगों में नाराजगी

यूपी में 17 सीटों की घोषणा बाकी

नई दिल्ली: आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के बाद अब भाजपा के वरिष्ठ नेता और वाजपेयी युग के नेता मुरली मनोहर जोशी को चुनाव रेस से बाहर कर दिया। जिससे कि कई लोगों ने नाराजगी जताई।

गौरतलब है आडवाणी को भी रामलाल ने ही चुनाव न लड़ने की सूचना दी थी। आडवाणी भी इस पर नाराज थे। भाजपा में अघोषित रूप से 75 साल से ज्यादा उम्र के नेताओं को लोकसभा चुनाव लड़ने से दूर रखा जा रहा है ताकि नए नेताओं को मौका मिल सके। लेकिन जो प्रक्रिया अपनाई जा रही है उससे बुजुर्ग नेता असहज व नाराज है।

कठेरिया इटावा व मस्त बलिया से लड़ेंगे

सूची में डॉ. जोशी के साथ मौजूदा सांसद नैपाल सिंह (रामपुर), भरत सिंह (बलिया), अशोक कुमार दोहरे (इटावा), अशोक पांडे (कुशीनगर) व प्रियंका रावत ( बाराबंकी) का टिकट काटा गया है।

रामपुर में नैपाल सिंह की जगह जया प्रदा को उम्मीदवार बनाया गया है। बाराबंकी में उपेंद्र रावत व कुशीनगर में विजय दुबे उम्मीदवार होंगे। भाजपा छोड़कर जाने वाले दो सांसदों- इलाहाबाद से श्यामाचरण गुप्ता की जगह उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रीता बहुगुणा जोशी व बहराइच की सांसद सावित्री वाई फुले की जगह अक्षयवर लाल गौड़ को टिकट दिया गया है। दो सांसदों- आगरा के रमाशंकर कठेरिया को इटावा व भदोही के वीरेंद्र सिंह मस्त को बलिया से उम्मीदवार बनाया गया है।

भाजपा ने अभी तक 352 उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। आज की सूची में भी उन दो सांसदों की जगह नए उम्मीदवार दिए गए है जो पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। इस तरह 56 सांसदों के टिकट काटे गए हैं। 145 सांसदों को फिर से मौका दिया गया है।

उत्तर प्रदेश के लिए अभी तक 61 सीटों की घोषणा हो चुकी है। भाजपा ने दो सीटें अपना दल को दी हैं। ऐसे में उसे अभी 17 सीटों की घोषणा करना बाकी है। अब केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक नहीं होगी। समिति में सभी सीटों पर चर्चा हो चुकी है और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह बाकी के नामों की घोषणा करेंगे।

Back to top button