बिज़नेस

अनिल अंबानी: 40 हजार करोड़ की संपत्ति, लेकिन हर्जाने में मांग डाले भारी भरकम रकम

हर्जाने के तौर पर मांगी गई ये रकम उनकी ADAG ग्रुप की लिस्टेड कंपनियों की मार्केट वैल्यू से दो गुना ज्यादा

नई दिल्ली। उद्योगपति अनिल अंबानी राफेल विवाद में 85,000 करोड़ रुपए की रकम के मानहानि हर्जाने के नोटिस भेज चुके हैं.

हर्जाने के तौर पर मांगी गई ये रकम उनकी ADAG ग्रुप की लिस्टेड कंपनियों की मार्केट वैल्यू से दो गुना ज्यादा हैं. ADAG ग्रुप की लिस्टेड कंपनियों में प्रमोटरों यानी अनिल अंबानी फेमिली के शेयरों का हिसाब लगाएं तो हर्जाने में मांगी गई रकम शेयर वैल्यू का साढ़े तीन गुना हो जाती है.

ये मानहानि के नोटिस 60 हजार करोड़ रुपए की राफेल डील से जुड़े आरोपों और उनकी रिपोर्टिंग से संबंधित हैं. मतलब हर्जाने में मांगी गई रकम राफेल डील से ज्यादा है. कुल 16 नोटिस मीडिया हाउस, जर्नलिस्ट और विपक्षी नेताओं को भेजे गए हैं.

लेकिन इनमें अगर प्रमोटर होल्डिंग का हिसाब लगाया जाए तो प्रमोटर के एसेट सिर्फ 25,000 करोड़ रुपए ही निकलते हैं. प्रमोटर में अनिल अंबानी और उनका परिवार शामिल है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का आरोप है कि राफेल डील में अनिल अंबानी की रिलायंस एयरो स्पेस को अनुचित फायदा पहुंचाया गया है. राहुल के मुताबिक पीएम नरेंद्र मोदी से दोस्ती की वजह से अनिल अंबानी को फायदा मिला है.

मानहानि के नोटिस पे नोटिस

अनिल अंबानी का ताजा नोटिस मीडिया पोर्टल The Wire को भेजा गया है. जिसमें 6000 करोड़ रुपए की मानहानि का हर्जाना मांगा गया है.

इसके पहले भी इस तरह के नोटिस कई मीडिया हाउस के अलावा विपक्ष के नेताओं को भी मिले हैं. भारत के इतिहास में शायद ये मानहानि के दावे का सबसे बड़ा हर्जाना मांगा गया होगा.

संजय निरुपम और प्रियंका चतुर्वेदी के मुताबिक उन्हें और कई कांग्रेस नेताओं को भी 5000 करोड़ रुपए के नोटिस मिले. इस मामले में अमेरिकी न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग और लंदन के अखबार फाइनेंशियल टाइम्स के पास भी नोटिस पहुंच चुका है.

अनिल अंबानी के बिजनेस का साम्राज्य

बिजनेस के लिहाज से अनिल अंबानी की रिलायंस ADAG ग्रुप कंपनियों की सेहत कोई बहुत अच्छी नहीं है. ग्रुप की 7 लिस्टेड कंपनियां हैं लेकिन इस साल जनवरी से अब तक इनमें से ज्यादातर के शेयर 50 परसेंट से ज्यादा गिर चुके हैं. जिससे इनकी मार्केट वैल्यू कम होकर सिर्फ 36500 करोड़ रुपए रह गई है.

ADAG ग्रुप कंपनियों के शेयरों का खराब प्रदर्शन

कर्ज और दूसरी दिक्कतों से ग्रुप की करीब-करीब सभी कंपनियों में इस साल निवेशकों की आधी रकम साफ हो गई है. एक जनवरी 2018 के भाव के हिसाब से 28 नवंबर को 2018 के बीच ग्रुप की सभी कंपनियों के शेयरों में लगातार गिरावट ही रही है.

अनिल अंबानी की कंपनियों पर भारी कर्ज

शेयर में कमजोरी के साथ रिलायंस ADAG ग्रुप की कंपनियां कर्ज के संकट से भी परेशान हैं. कर्ज कम करने के लिए अनिल अंबानी हिस्सेदारी भी बेच रहे हैं. वित्तीय साल 2018 में अनिल अंबानी के ADAG ग्रुप की कंपनियों पर कुल एक लाख करोड़ (1,03,158 करोड़) का कर्ज है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
अनिल अंबानी: 40 हजार करोड़ की संपत्ति, लेकिन हर्जाने में मांग डाले भारी भरकम रकम
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags