कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सखी सेंटर से अंजलि जैन की रिहाई

अंजली के बाहर निकलते ही नजर आई उसके चेहरे में मुस्कान

रायपुर: छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के रहने वाले 33 वर्षीय मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी की पत्नी 23 वर्षीय अंजलि जैन को आज जाकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सखी सेंटर से रिहाई मिली है.

सखी सेंटर में रह रही अंजली जैन के बाहर निकलते ही उसके चेहरे में मुस्कान नजर आई. अंजली को मर्जी के अनुसार उसके पति आर्यन आर्य को सौंपा गया. लेकिन अंजलि ने अपनी जान को पिता से खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की है.

दरअसल 19 मार्च से 9 महीने तक अंजलि सखी सेंटर में रह रही थी. अंजलि को बाहर निकालने से पहले सखी सेंटर के 200 मीटर के दायरे में धारा 144 लगा दी गई थी. सखी सेंटर आने जाने वाले रास्ते पर पुलिस ने बैरिकेड लगा रखा है. जिससे कोई अनहोनी न हो. सेंटर से रिहाई के वक्त एसएसपी आरिफ शेख और एसडीएम प्रणव सिंह मौजूद रहे.

सखी सेंटर से बाहर निकलने के बाद अंजलि जैन ने कहा कि मैं अपनी मर्जी से पति के साथ जा रही हूं. थोड़े टाइम के लिए मुझे सुरक्षा की जरूरत है. मुझे अपनी पिता से खतरा है. मेरे परिवार वालों से अपील करती हूं वो इन चीजों को स्वीकार कर ले. जो हुआ वो हो गया इन चीजों को अब जल्द खत्म करे.

जिस प्रकार से लड़ते आई हूं आगे भी अपनी लड़ाई उसी प्रकार लड़ूंगी और जीतूंगी. यह सब होगा ऐसा नहीं सोची थी, पर अब ऐसा हो रहा है. मेरे पिता मुझे आशीर्वाद देकर इसे स्वीकार कर ले. मैं माँ-बाप से रिश्ता नहीं तोड़ी हूं. उन्हें मनाने की कोशिश करूंगी.

अंजलि जैन ने पति के साथ रहने का निर्णय लिया

हाईकोर्ट ने 15 नवंबर को अंजलि के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि अंजली जैन को अपनी मर्ज़ी के व्यक्ति के साथ और अपनी मर्ज़ी की जगह में रह सकती है. अदालत ने ज़िले के पुलिस अधीक्षक के समक्ष अंजलि जैन को सखी सेंटर से मुक्त कराए जाने के निर्देश भी दिए थे. जिसके बाद अंजलि जैन ने पति आर्यन आर्य उर्फ मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी के साथ रहने का निर्णय लिया है.

Tags
Back to top button