अंकिता लुनिया अब कहलाएंगी साध्वी आत्म रूचि मसा

धमतरी।

धमतरी की लाडली बेटी अंकिता लूनिया का अब नया नाम साध्वी आत्म रूचि मसा होगा ।आज उन्होंने अपने संतों से दीक्षा ले ली है। धमतरी शहर में जैन समाज के द्वारा पांच दिवसीय दीक्षा समारोह का आयोजन किया गया था ।

जिसमें महेंद्र सागर जी मसा और मणिप्रभा श्रीजी मसा के द्वारा मुमुक्षु अंकिता लूनिया को दीक्षा देकर उनका नया नाम आत्म रूचि मसा रखा गया। अंतिम दिन विभिन्न प्रक्रियाओं के बाद अंतिम दीक्षा संतों ने दी ।इस दौरान न सिर्फ जैन समाज बल्कि सर्व समाज उनके स्वागत के लिए उमड़ पड़ा ।बता दें कि अंकिता लुनिया MSC IT तक पढ़ाई करने के बाद सांसारिक मोह को त्याग कर तप की मार्ग पर चलने का निर्णय लिया था ।पिछले 5 वर्षों से वह सादगीपूर्ण जीवन जी रही थी। दीक्षा समारोह में विवेक सागर जी विराज सागर जी विशुद्ध सागर जी साध्वी शुभंकरा स्नेहा मसा भी मौजूद थे ।

उज्जैन की अंकिता जैन ने भी ली दीक्षा

यह संयोग ही रहा कि धमतरी की अंकिता लूनिया की दीक्षा समारोह में उज्जैन से पहुंची अंकिता जैन ने भी दीक्षा ली। उनका नया नाम संयम रूचि मसा होगा ।ज्योतिष शास्त्र में पीएचडी 35 वर्षीय अंकिता जैन मूलतः उज्जैन की है और वह पिछले 17 वर्षों से वैराग्य की जीवन जी रही है ।

लेकिन दीक्षा का संयोग नहीं बन पाया था ।वह धमतरी इस समारोह में पहुंची हुई थी कि अचानक रात में महेंद्र सागर जी ने उन्हें दीक्षा की अनुमति दे दी। इस तरह से धमतरी में 48 साल बाद दो साध्वी बनकर निकले हैं। और वह सांसारिक मोह को त्याग कर तप के मार्ग पर आगे निकल गए।

Back to top button