राष्ट्रीय

अकबरी देवी की हत्या के मामले में कड़कड़डूमा अदालत में एक और आरोपपत्र दाखिल

चश्मदीद गवाहों के बयानों पर पुलिस ने छह युवकों को धर दबोजा

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगा में हुए 85 वर्षीय बुजुर्ग अकबरी देवी की हत्या के मामले में कड़कड़डूमा अदालत में बुजुर्ग महिला के घर में जिन्दा जलनेऔर बाहर खड़ी भीड़ द्वारा वीडियो लेने का एक और आरोपपत्र दाखिल किया है। अदालत ने आरोपपत्र पर संज्ञान के लिए 21 जून की तारीख तय की है।

कड़कड़डूमा स्थित ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष दायर आरोपपत्र में कहा गया कि यह घटना भजनपुरा के गांवडी इलाके में घटित हुई। एक चार मंजिला इमारत में दंगाइयों ने 25 फरवरी को आग लगा दी। भूतल और पहली मंजिल पर यह परिवार कारोबार करता था।

ऊपरी दो मंजिलों पर रिहायश थी। दंगाइयों ने जब आग लगाई तो परिवार के सारे सदस्य जान बचाकर इमारत की सबसे ऊपर वाली मंजिल पर पहुंच गए। 85 वर्षीय अकबरी देवी भाग नहीं पाईं और आग की लपटों में घिर गईं।

चश्मदीदों और परिवार के बयान से की शिनाख्त: वायरल वीडियो, चश्मदीद गवाहों के बयानों और परिवार के सदस्यों की गवाही के आधार पर पुलिस ने छह युवकों को आरोपी बनाया है। इन आरोपियों के मोबाइल फोन के कॉल रिकॉर्ड को भी आरोपपत्र में लगाया गया है। घटनास्थल पर उनके मोबाइल की लोकेशन है। इसके अलावा भी कई तकनीकी साक्ष्य आरोपपत्र के साथ पेश किए गए हैं।

संसद में उठा था सवाल: बु

जुर्ग महिला की हत्या के मामले को लेकर कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने संसद में आवाज उठाई थी। सिब्बल ने कहा था कि क्या दिल्ली की कानून व्यवस्था यही है कि एक बुजुर्ग को उसके ही घर में जिंदा जला दिया जाए।

वायरल वीडियो के आधार पर चश्मदीदों तक पहुंची पुलिस:

आरोपपत्र में बताया गया कि पुलिस ने जब जांच शुरू की तो पाया कि इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर दर्जनों वीडियो अपलोड किए गए हैं।

पुलिस ने इन्हीं वीडियों की मदद से तफ्तीश शुरू की। वीडियो के आधार पर ही चश्मदीद गवाहों तक पहुंची। फिर उनके बयान लिए गए। इन सभी वीडियो को आरोपपत्र के साथ लगाया गया है। इस मामले में अपराध शाखा ने उन पुलिसकर्मियों और फायरकर्मियों को भी गवाह बनाया है, जिन्होंने मौके पर पहुंचकर बुजुर्ग महिला के परिवार के अन्य सदस्यों को बचाया था।

Tags
Back to top button