उत्तर प्रदेशराज्य

एंटी करप्शन टीम ने क्लर्क को 40 हजार रुपए घूस लेते हुए रंगे हाथ किया गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के औषधि विभाग में तैनात क्लर्क के खिलाफ कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज

गोरखपुर:उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के औषधि विभाग में तैनात क्लर्क को एंटी करप्शन टीम ने 40 हजार रुपए घूस लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. उसके खिलाफ कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है.

गोरखपुर के शाहपुर थाना क्षेत्र के जंगल सिकरी के रहने वाले के अनुपम गौड़ पुत्र आनन्द कुमार गौड़ को दवा की दुकान के लिए नए ड्रग लाइसेंस की आवश्यकता रही है. इसके लिए उन्होंने 10 फरवरी को ऑनलाइन आवेदन किया.

इसके बाद जब उन्होंने औषधि विभाग में सम्पर्क किया तो गोरखपुर के कलेक्ट्रेट परिसर स्थित औषधि विभाग में कार्यरत लिपिक विकास दीप ने 40 हज़ार रुपये रिश्वत मांग की. जब रिश्वत मांगने की बात सामने आई, तो अनूप ने पिता को जानकारी दी. अनूप के पिता आनंद ने इसकी लिखित सूचना एंटी करप्शन टीम को दे दी.

एंटी करप्शन टीम ने बनाई योजना

इसके बाद एंटी करप्शन टीम के प्रभारी रामधारी मिश्र, निरीक्षक ए.के. सिंह, चन्द्रेश यादव, शैलेन्द्र राय, चन्द्रभान मिश्रा, शैलेन्द्र सिंह की सूझ-बूझ से पूरी योजना बनाई गई. अनूप को लिपिक को पैसे देने को कहा गया और बुधवार को जब अनुप ने गोरखपुर के कलेक्ट्रेट परिसर में औषधि विभाग ऑफिस पहुंचा और औषधि विभाग में कार्यरत लिपिक विकास दीप द्वारा मांगे गए 40 हजार रुपए औ‍षधि विभाग में कार्यरत लिपिक विकास दीप को दे दिया.

वहीं, मौके पर पहले से ही मुस्तैद एंटी करप्शन टीम ने विकास दीप को घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया. क्लर्क विकास दीप को पुलिस कोतवाली थाने ले गई जहां मुकदमा दर्ज कराया गया.

एंटी करप्शन टीम के प्रभारी ने दी अधिक जानकारी

एंटी करप्शन टीम के प्रभारी रामधारी मिश्रा ने बताया कि शाहपुर जंगल सिकरी के रहने वाले आनंद कुमार गौड़ ने लिखित रूप से एंटी करप्शन विभाग में शिकायत दर्ज कराई थी. जिसमें औषधि विभाग में कार्यरत लिपिक विकास दीप द्वारा 40 हजार रुपए घूस मांगने की बात सामने आई थी. इस मामले में कार्रवाई करते हुए उसे रंगे हाथ 40 हजार रुपए घूस लेते गिरफ्तार किया गया है. कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराकर आगे की कार्रवाई की जा रही है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button